पिता बना जान के दुश्मन, बेटी ने लगाई गुहार ‘पुलिस अंकल मुझे बचा लीजिए’

File Photo
File Photo
Advertisement

12 साल की एक लड़की ने अपने ही पिता के खिलाफ पुलिस स्टेशन में उसके खिलाफ आवेदन दिया है, मेरे पिताजी ही मुझे जान से मार डालेंगे. पुलिस को अपहरण और हत्या का आवेदन दिया गया है. फिलहाल पिता के खौफ से डरी सहमी बच्ची वार्ड नंबर 32 के पार्षद हंसल सिंह के घर पर सुरक्षित है.

लड़की ने खुद बयान किया अपनी दास्ता

Advertisement

कॉर्मल स्कूल की क्लास 6 की छात्रा विद्या रानी ने बताया कि दस वर्ष पहले पिता अरवल जिले के अहियारपुर निवासी विकास कुमार ने बेटी को जन्म देने की सजा के तौर पर उसकी मां को घर से निकाल दिया था. उसके बाद पिता मां को घऱ में नही रहनेे दिया. तब से मां और बच्ची का संबंध समाप्त हो गया है. मां का कसूर बस इतना था कि उसने एक बेटे को नहीं बेटी को जन्म दिया था. इसके बाद मां ने दूसरी शादी कर ली. दूसरे पति के साथ उनका संबंध बेहतर है. और सभी उनसे मिलने भी आते है. विद्या अपने नाना- नानी के साथ रहती है वह पिता का घर कब का छोड़ चुकी है.

ये भी पढे़ं:-   अपराधियों का तांडव थानाध्यक्ष के पिस्तौल छीनकर की फायरिंग, जमकर कर दी पिटाई

पिता 11 अप्रैल को तिलकामांझी हटिया रोड पर नाना से मिला. पूछने पर बोले की किसी दोस्त के घर आया हुं. उसके बाद वह 11 को जब वह छुट्टी के बाद स्कूल से बाहर निकली तो पिता जी कुछ लोगों के साथ घूर रहे थे. इसके बाद वह घर भी आ गए. 12 अप्रैल की सुबह भी पिता विकास कुमार जबरन नाना के घर मुझे जाने से मारने की नीयत से पहुंचे. इस बीच नाना ने शोर मचाकर मोहल्ले के लोगों को बुला लिया. वार्ड पार्षद के आने के बाद पिता भाग निकले.

ये भी पढे़ं:-   पूर्वी चंपारणः अश्लील वीडियो वायरल होने पर भड़का लोगो का गुस्सा, दो गुटो में तनाव, जानिए मामला

विद्या ने बताया कि उसे हाल ही में चित्रांकन प्रतियोगिता के लिए राज्य स्तर पर सम्मानित किया गया है. स्कूल में देश स्तर पर आयोजित प्रतियोगिता में वह अव्वल रही है. इधर, पार्षद ने बताया कि लड़की पूरी तरह सुरक्षित है। तिलकामांझी थाना प्रभारी ने भी सुरक्षा देने और पिता की अविलंब गिरफ्तारी के लिए आश्वस्त किया है.

Advertisement