#metoo की बात तो जाने दीजिए बिहार में तो #teacherstoo होता है !

Advertisement

दरभंगा से वरुण ठाकुर की रिपोर्ट

#metoo के बारे में तो आप लोगों ने खूब सुना होगा और इसको लेकर सोशल मीडिया पर लाखो लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी और कई सेलेब्रेटीज ने अपना अनुभव भी साझा किया। अगर बात बिहार की करें तो यहां एक ऐसा सनसनीखेज मामला सामने आया है जिसके बारे में जानकर आप अचंभित रह जाएंगे। सृष्टि के सबसे पवित्र संबंधों में से एक माना जाता है गुरु-शिष्य का संबंध। धर्मग्रंथों में भी लिखा गया है कि गुरु ब्रम्हा, गुरु विष्णु, गुरुदेवो महेश्वरो..गुरु साक्षात परमब्रम्ह तस्मै श्री गुरुवे नम: यानि कि गुरु का स्थान ईश्वर से भी अधिक महत्वपूर्ण है। कबीर ने कहा था कि गुरु गोविंद दोऊ खड़े, काके लागू पांव। बलिहारी गुरु अपने, गोविंद दियो बताय। कुल मिलाकर गुरु उस कुम्हार के समान हैं जो माटी को भी एक आकार दे देते हैं। लेकिन दुर्भाग्य की बात ये है कि आज के कुछ गुरु ने इस सम्मानित पेशे को भी कलंकित कर दिया है।

जानिए कलंक की गाथा पूरे विस्तार से

गुरु शिष्य के पावन संबंध को कलंकित करने का एक मामला सामने आया है दरभंगा के एमएलएसएम कॉलेज के इतिहास विभाग के शिक्षक सह एनसीसी ऑफिसर कैप्टन डॉ अनिल कुमार चौधरी के खिलाफ। एक छात्रा ने प्रधानाचार्य से लिखित शिकायत की है। शिकायत मिलने के बाद जांच के लिए कॉलेज ने 10 सदस्यीय समिति का गठन कर दिया है. विवि प्रशासन को भी मामले की जानकारी दे दी गयी है. जांच समिति में प्राध्यापक, कर्मचारी व छात्र नेता को शामिल किया गया है. कॉलेज के एनसीसी कार्यालय में नाम लिखाने गयी थी। छात्रा का कहना है कि वह दूसरे कॉलेज में पढ़ती है. एनसीसी में नाम लिखाने के लिए दो अक्तूबर को कॉलेज परिसर स्थित एनसीसी ऑफिस में डॉ चौधरी से मिलने गयी थी. वहां डॉ चौधरी ने उससे कहा कि घर पर आकर पढ़ो…अच्छे से पढ़ायेंगे यह बात किसी से कहना मत। छात्रा के अनुसार डॉ चौधरी इससे पहले भी कई छात्राओं के साथ दुर्व्यवहार कर चुके हैं।

अब आगे का मामला जानिए

सभी आरोपों का हवाला देकर छात्रा ने प्रधानाचार्य विद्यानाथ झा को आवेदन देते हुए कठोर कानूनी कार्रवाई की मांग की है। विरोध में छात्रों ने कॉलेज में किया हंगामा यह जानकारी मिलते ही कॉलेज के छात्रों ने कॉलेज में हंगामा खड़ा कर दिया। प्रोफेसर के खिलाफ जम कर नारेबाजी की। आंदोलनकारी प्रधानाचार्य से आरोपित शिक्षक डॉ चौधरी पर कार्रवाई की मांग कर रहे थे। मामले को लेकर काफी देर तक कॉलेज में गहमागहमी बनी रही। शैक्षिक माहौल अस्त-व्यस्त रहा।