नियोजित शिक्षको को लेकर सरकार ने दी है ये बड़ी खुशखबरी, समय पर मिलेंगा वेंतन

good-news-for-contract-teac
good-news-for-contract-teac
Advertisement

पटना। बिहार के नियोजित शिक्ष्को के लिए बड़ी खबर आई है। प्रदेश के प्राथमिक से लेकर प्लस टू तक के नियोजित शिक्षकों को को अब अपने वेतन के लिए लंबा इंतजार नही करना पड़ेगा। बता दे कि अब इन शिक्ष्को को उनका वेतन समय पर मिल सकेगा। बता दे कि शिक्ष्को के वेतन में होने वाले विलंब को देखतें हुए सरकार ने फिर से पुरानी व्यवस्था को बहाल किया है।

जानकारी के अनुसार सरकार के इस कदम के बाद अब नियोजित शिक्षकों की वेतन निकासी और वितरण जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (डीपीओ) के जरिए होंगी। संस्कृत, मदरसा एवं अन्य विद्यालयों के शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मियों के वेतन के लिए भी पुरानी व्यवस्था ही लागू की गई है। शिक्षा विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है।

इस आदेश में कहा गया है कि चालू वित्तीय वर्ष के वेतन से लेकर दूसरे वित्तीय कार्यों के लिए कॅाम्प्रिहेंसिव फाइनेंशियल मैनेजमेंट सिस्टम (सीएफएमएस) योजना लागू हुई हैं। जिसके तकह शिक्षा विभाग ने विभिन्न स्तर के निकासी और व्ययन पदाधिकारियों की संख्या सीमित कर दी। जिला स्तर पर महज तीन निकासी और व्ययन पदाधिकारी बनाए गए। जिसके बाद से वेतन को लेकर कई प्रकार की समस्याएं सामने आने लगीं।

इन समस्याओं को देखते हुए शिक्षा विभाग ने एक बार फिर से पुरानी व्यवस्था को लागू करने का फैसला लेते हुए इसे लागू किया है। मदरसा, संस्कृत और अल्पसंख्यक विद्यालयों के शिक्षक-शिक्षकेतर कर्मियों के वेतन की निकासी जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा की जाएगी। तो वहीं, प्राथमिक एवं मध्य विद्यालयों के नियमित शिक्षकों तथा माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों के नियमित शिक्षकों के लिए वेतन निकासी के लिए जिला कार्यक्रम पदाधिकारी अधिकृत किए गए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here