गुफा में फसी है पूरी फुटबाॅल टीम, बाहर निकालने में लग सकते हैं 4 महीने, जानिए

players

बैंकॉक। पीछले 10 दिनो से थाईलैंड की गुफा थैम लुआंग में फंसे जूनियर फुटबॉल टीम के 12 खिलाड़ियों और उनके कोच को आखिरकार ब्रिटिश गोताखोरों ने कल शाम खेज ही निकाला।

Advertisement

जानकारी सभी खिलाड़ी जीवित हैं वही दो घायल बताय जा रहे है। लकिन अब भी सबसे बड़ी दिक्कत ये है कि इन सबको निकालने में 4 महिने का वक्त लग सकता है। जी हा आपने बिल्कुल सही सुना। थाईलैंड की सेना की माने तो अगर इन लोंगो को गुफा से बाहर निकलना है तो इन्हे आने के तैराकी सीखनी होगी या फिर उन्हें बाढ़ का पानी उतरने तक का इंतजार करना पड़ेंगा। इसमें करीब चार महीने यानी अक्टूबर तक का समय लग सकता है।

ration-for-playesr
ration-for-playesr

फिलहाल गुफा के अंदर फोन केबल्स डाली जा रही हैं ताकि फुटबॉलर अपने परिवार से कांटेक्ट कर सके। वहीं गोताखोरों की टीम इन बच्चो तक तक खाना और दवा भी पहुचाने में जुटी हुई है। इसके अलावा प्रशासन इन सबके लिए चार महीने तक का राशन जुटाने को लेकर भी विचार कर रही है।

अब आप ये सोच रहे होंगे की भला ये कैसी गुफा है जिनमें से इन्हे निकालने या निकलने में 4 महिने लग जाएंगे। तो आपको बता दे कि दरअसल बात ये है कि ये सभी जूनियर खिलाड़ि जमीन से करीब एक किलोमीटर नीचे एक ऐसी जगह में फंसे हैं जहां अंदर जाने के लिए पर्याप्त रास्ता नहीं है। वही गुफा में इतना ज्यादा पानी भरा हुआ है कि पंप से हर घंटे 10 हजार लीटर पानी भी निकालने के बाद भी मात्र एक घंटे में वॉटर लेवल एक सेंटीमीटर ही कम हो सका है।

ऐसे में इन बच्चो के लिए एक और बुरी खबर ये है कि बुधवार से दोबारा भारी बारिश होने का अनुमान मौसम विभाग ने लगाया है। आपको बता दे कि इन प्लेयरो के बचाव के काम में ब्रिटेन, चीन, म्यांमार, लाओस, ऑस्ट्रेलिया और थाईलैंड के विशेषज्ञों की टीम लगी हुई है।

players
players

बच्चे ने पूछा आज कौन सा दिन है!

बच्चो की खेज में गए गोताखोरों की टाॅर्च जैसे ही इन बच्चो के पास पहुची बच्चों ने कहा, ’हम भूखे हैं, क्या हम बाहर जा सकते हैं? इस पर गोताखोरो ने जवाब दिया कि आज नहीं। गोताखोरों ने जब बच्चों से पूछा कि वे कितने लोग हैं तो जवाब मिला तेरह। एक बच्चे ने पूछा कि आज कौन सा दिन है। तब गोताखोर ने कहा- सोमवार, आप यहां 10 दिन से हैं, आप बहुत मजबूत हैं।

गुफा देखने गए तभी बाढ़ आ गई!

अंडर-16 फुटबॉल टीम के सदस्य ये सभी 12 खिलाड़ी अपने कोच के साथ अभ्यास मैच के बाद गुफा देखने गए थे। ये लोंग समुद्र तट पर मौजूद रास्ते के जरिए इसके अंदर गए। रास्ता बहुत संकरा था। इसी दौरान तेज बारिश आ गई और बाढ़ आ गई। इससे ये 10 किलोमीटर लंबी गुफा में रुक गए। लेकिन पानी बढ़ने से गुफा से बाहर निकलने का संकरा रास्ता बंद हो गया। बारिश के हर मौसम में ये गुफा खतरनाक हो जाती है, इसलिए यहां जुलाई से नवंबर के बीच एंट्री बंद कर दी जाती है।

आपको बता दे कि इन सभी खिलाड़ियो की उम्र 11 से 16 साल के बीच है। वही कोच की उम्र 25 साल है।

player-trapped-in-cave
player-trapped-in-cave, pic credit to bashkar .com

पानी की वजह से अब तक जिंदा हैं:- गनीमत की बात ये है कि ये सभी खिलाड़ि सुरक्षीत है। इनकी तलाश और बचाव के काम में 1200 लोगों की टीम लगी हुई थी। डॉक्टरों का कहना है कि गुफा में पीने लायक पानी होने की वजह से ये अब तक जिंदा हैं। गुफा में ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए 200 सिलेंडर बुलावाए गए हैं। यह गुफा म्यांमार और लाओस बॉर्डर के पास नेशनल पार्क के भीतर स्थित है। बेल्जियम के गोताखोर बेन रेमेनेंट्स ने बताया कि इस गुफा में छोटी-छोटी सुरंगें हैं। ये कई किलोमीटर तक फैली हैं। तापमान 21 डिग्री है और सतह इतनी दलदली है कि उस पर खड़े रहना भी मुश्किल है।

बाहर निकलने के तीन तरीके

इन सबको बाहर निकालने को लेकर रेस्क्यू टीम फिलहाल तीन तरीकों पर गौर कर रही है। पहला- गुफा से बाहर निकल रही सुरंगों का सबसे सुरक्षित रास्ता ढूंढकर फुटबॉलरों को गोताखोरी सिखाई जाए और बाहर निकाला जाए। दूसरा- रेस्क्यू ऑपरेशन के तहत जो चिमनियां गुफा के अंदर ड्रिल की जा रही हैं, अगर वे एक सूखे स्थान तक पहुंचती हैं तो उनके जरिए बच्चों को बाहर निकाला जाए। तीसरा- बाढ़ खत्म होने का इंतजार किया जाए। ये सबसे सुरक्षित तरीका है, लेकिन इसमें महीनों लग सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here