05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

‘मेड इन चाइना’ के खिलाफ बिहार की एक अदालत ने सुनाया बड़ा फैसला…देश में पहली बार सामने आया ऐसा मिसाल

boycott-made-in-china2

newsofihar.com डेस्क, इन दिनों सोशल मीडिया पर चीन से बने सामान का बहिष्कार करने का ट्रेंड चल रहा है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि बिहार के एक छोटे से गांव की ग्राम पंचायत की अदालत ने मेड इन चाइना का बहिष्कार करने का फैसला सुनाया है। औरंगाबाद जिले के ओबरा पंचायत की ग्राम पंचायत ने तय किया है कि चीन में बने सामान का पूरी तरह से बहिष्कार किया जाएगा। इतना ही नहीं अगर कोई चीन में निर्मित सामान का इस्तेमाल करते हुए पकड़ा जाएगा तो उसके खिलाफ जुर्माना लगाने का भी प्रस्ताव पास किया गया है। पंचायत की सरपंच गुड़िया देवी ने कहा कि इस मुद्दे को लेकर स्थानीय गांववालों ने एक बैठक बुलाई थी। उस बैठक में तय किया गया कि मेड इन चाइना पर बैन लगाया जाय और लोगों से अपील की गई की चीन में बने किसी सामान का प्रयोग नहीं किया जाय। उरी अटैक के बाद पाकिस्तान को चीन के समर्थन किए जाने की खबरों को सुनकर यहां के लोग आक्रोशित थे। सरपंच गुड़िया देवी कहती हैं कि चीन हमारा दुश्मन है और चीन पाकिस्तान का समर्थन कर रहा है ऐसे में हम कैसे चीन में बने सामान का प्रयोग कर सकते हैं।

ओबरा पंचायत के दुकानदारों ने भी ग्राम पंचायत के फैसले पर अपनी सहमति जताते हुए चीन में बने सामानों को नहीं बेचने का फैसला किया है। अभी दीपावली आने वाली है और इस दीवाली पर मेड इन चायना की जगह देसी दिया के साथ रोशनी के महापर्व को मनाया जाएगा।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

2 विचार साझा हुआ “‘मेड इन चाइना’ के खिलाफ बिहार की एक अदालत ने सुनाया बड़ा फैसला…देश में पहली बार सामने आया ऐसा मिसाल” पर

  1. M K Choudhary October 11, 2016

    Aur baki Videshi Company ka samaan Mall mein Jakar kharideinge aur hum boltey hain ki hum to Deshbhakt hain……..

    Boycott All Goods by Videshi Company. None is useful to us…..

    BE Intelligent, because you are 100% Indian.

    India is the richest Country in the Universe in thousands of Parameters

  2. दिलीप दीक्षित October 19, 2016

    चीन हमारा सदैव से दुश्मन है उनकी न कोई जाती है न कोई धर्म सभी एक तरह के नाजायज संतान है सदा से उसने भारत विरोधी काम किया है इसका जीवंत उदाहरण है:–
    * शिमला समझोता
    * पंचशील समझोता
    * एवं हाल ही में हुवे UNO बैठक में भारत के विरोध में अपना समर्थन
    और जब वह हमारे देश में आते है किसी विशेष आयोजन समारोह में तो बड़ी-बड़ी बाते करते है उनके लिए वो बाते कुछ भी मायने नहीं रखते क्योंकि वो इंसान है ही नहीं वो किसी विशेष दोगले प्रजाति का सम्मिश्रण है उनकी बातों पर विश्वास करना भी गुनाह है।

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME