23 अगस्त, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

प्रतिदिन कोबरा सांप से खुद को डंसवाता है ये शख्स, वजह जानकर हैरान हो उठेंगे !

फाईल फोटो सौ. dailyo

फाईल फोटो सौ. dailyo

newsofbihar.com डेस्क
9 अगस्त 2017

आपने बिहार में शराबबंदी के कई फायदे तो सुने होंगे लेकिन इसके साइड इफेक्ट के बारे में आपने नहीं सुना होगा। साइड इफेक्ट भी इतना भयावह जो आपके शरीर में कपकपी पैदा कर दे। शराबबंदी का इस व्यक्ति पर एसा असर हुआ की अपने नशे की लत को पूरा करने के लिए बिहार का तपेश्वर राणा खुद को कोबारा से कटवाने लगा। उसने अपने नशे की लत को पूरा करने के लिए एक संपेरे से कोबरा सांप खरीदा और उसके बाद सांप से अपने हाथ पर डसवा कर उसके जहर का असर देखा। कोबरा से डसवाना भले ही उसके लिए प्राणघातक साबित नहीं हुआ मगर ज़हर के असर से होने वाली मदहोशी को तपेश्वर शराब की बोतल से होने वाले नशे की तरह महसूस करने लगा। उसे कोबरा सांप की एक डंक शराब की बोतल से होने वाले नशे के बराबर लगी और उसने खुद को सांप से डंसवाना शुरू कर दिया।

तपेश्वर राणा के अनुसार सांप से डसवाकर उसे नींद अच्छी आयी फिर क्या तपेश्वर खुद को कोबरा सांप से कटवाने का आदि हो गया। यह सिलसिला रोज़ाना राणा की ज़िंदगी के एक हिस्से की तरह बन गया। रोजाना अपने हांथ पर एक बार कोबरा सांप का डंक मरवाता और शराब के नशे में होने वाले मदहोशी का आनंद लेने लगता। वह डंक मरवाकर एक मदमस्त नशेड़ी की तरह झूम उठता।

1

तपेश्वर राणा के कोबरा के डंक का आदि होने की बात का तो खुलासा तब हुआ जब कोबरा सांप एक दिन गुस्सा होकर राणा को डसने के दौरान उसके अंगूठे में डंक नहीं मारता। कोबरा ने हाथ की बजाए राणा के अंगूठे को निशाना बनाया और ज्यादा जहर उगल दिया। हर बार कोबरा की डंक का नशे की तरह आनंद लेने वाले तपेश्वर के लिए कोबरा की डंक मज़ा नहीं सज़ा साबित हुई। तपेश्वर की हालत इस बार कोबरा के डंक से ज़हर फैलने के कारण खराब हो गयी और उसे सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया।

अस्पताल में राणा का ज़हर से उपचार करने के लिए डॉक्टर जयकांत ने उसे लगातार 18 स्नेक बाइट के इंजेक्शन लगाए, तब जाकर राणा की जान बच सकी। अगर बिहार में शराबबंदी के हज़ार फायदे भले ही गिनाए जा सकते हैं लेकिन तपेश्वर राणा की आपबीती सुनकर आप बिहार में शराबबंदी के इस अनोखे साइड इफेक्ट का अंदाजा लगा सकते है कि शराबंदी का असर किस-किस रूप में हुआ है। शराब पर पाबंदी के बाद शराब के आदि लोग अपनी हरकतों से बाज़ आना छोड़कर नशे के अन्य विकल्पों को ढूंढ रहे हैं। जिसके कारण वह नशा करने के नए-नए तरीके ढूंढ़ने में ऐसा खतरनाक रास्ता भी अपनाने लगे हैं।

ko

राणा के साथ हुए घटनाक्रम की लोग आश्चर्य चकित होकर उसकी इस भयावह व अपने आप में अनोखी आदत की चर्चा कर रहे हैं। उसके आस पास के लोग राणा के घर जुटने लगे हैं और अब इलाके के लोग उसे विष पुरुष की संज्ञा भी देने लगे हैं।

तपेश्वर राणा समस्तीपुर जिले के वारिसनगर प्रखंड के सारी गांव का रहने वाला है। तपेश्वर राणा शराब पीने का इतना आदी हो चुका था कि शराब का सेवन नहीं करने पर उसे बैचैनी होती थी और रात में नींद नहीं आती थी। बिहार में शराबबंदी कानून लागू होने के बाद उसकी परेशानी इतनी बढ़ गयी की वह कुछ दिन तो बिहार को छोड़कर दूसरे राज्य में अपने नशे की लत को पूरा करता रहा फिर जब वह कुछ दिन बाहर रहने के बाद वापस अपने घर समस्तीपुर लौटकर आया तो वह शराब नहीं मिलने के कारण परेशान रहने लगा।

परेशानी बढ़ने पर डॉक्टर के पास जाने पर डॉक्टर ने उसे विलियम टेबलेट लेने की सलाह दी। लेकिन दवा के सेहत पर खराब असर होन की बात कहकर किसी ने राणा को सांप से कटवाने की सलाह दी। नशे के लिए ऐसी लत कोई पहला मामला नहीं है। बिहार में शराबबंदी के बाद कई लोग नशे की लत मिटाने के लिए साबुन तक खा चुके हैं तो कई शराब न मिलनी की वजह से बीमार होकर अस्पताल में भर्ती तक हो चुके हैं।

ये भी पढे़ं:-   व्यवसायी बंधू डबल मर्डर केस में हसीना का हाथ होने का है पुलिस को शक, मर्डर का राज अब भी है बरक़रार..

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME