23 अगस्त, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

एक ऐसा प्रयोग जो इंसानो को बनायेगा महाशक्तीशाली

फाइल फोटो सौ. DailyO

साहुल पाण्डेय की रिपोर्ट

अमेरीकी एरोस्पेस कम्पनी स्पेस एक्स के सिईओ ऐलेन मस्क ने एक ऐसा सपना सच करने की ठानी हैं जीसकी हम और आप सिर्फ कल्पना कर सकतें हैं या फिल्मों मेें देख सकते हैं।मैट्रिक्स मूवी तो आप सबने लगभग देखी होगी हि और वो सिन याद भी होगा कि कैसे इस फिल्म के हिरो को महज एक चीप के माध्यम से अनाडी से खिलाड़ी बन जाता है और मशीनो से भी तेज काम करने जगता है।अब अगर सोचिए कि अइाप एक कुंफु फाईट देख रहें हो और आपको भी मन करे कि काश आप भी कुंग्फु सिख पातें वो भी सिर्फ घर बैठे, अभी , इसी वक्त। आप सोच रहें होगें कि क्या बकवास हैं , लेकिन ये सच हो सकता हैं । आज की ईस तीनीकि दुनिया में कुछ भी हो सकता हैं गुरु सो इसी को लेकर एलेन मस्क यानी स्पेस के प्प्पा ने एक क्मपनी खेल ली हैं। जीसमें वे तकनीक को इंसानी मस्तिष्क से जोडने यानी मर्ज करने के इस अनोखे प्रोजेक्ट पर काम करेंगें।

universal

अब दक बार फिर मैट्रिक फिल्म पर चलतें हैं, कसे इस फिल्म में दिखया गया है मशी नो ने इंसानो पर अपना अधिकार जमा रखा हैं बस यही बात का डर ष्शायद मस्क को हो गया हैं। तभह तो मस्क ने कहा हैं कि जिस प्रकार आज कुतिम बु़द्धि आज चरम पर प्रगति कर रही हैं उससे वो मनवता कि जिन्दगी को लेकर चिंतित हैं। उन्हें डर है कि एक दिन मनुष्य से मशीने आगें निकल जाएंगी और ऐसा हुआ तो ईसान दोयम दर्जे का यानी मशीनो का दास बन के रह जाएगा।

ये भी पढे़ं:-   अब घर बैठे अपने पुराने सिम को रिलायंस जियो में करें कन्वर्ट... ये है आसान तरीके !
patel-patanjali

एक रिपोर्ट के मुताबिक मस्क एक मस्तिष्क-कंप्युटर इंटरफेस पर काम कर रहें हैं जो इंसानो को मशीनो में हो रहीे प्रगती के साथ बने रहने में मदद करेगा। इस का खस काम इंसानी भावनाएं और इंसानी गुणो जीससे हम दंसान बनतें हैं को बढाने में मदद करेंगा। द वाॅफल स्ट्रीट जर्नल
क्े मुताबिक इस कम्पनी का नाम न्यूचिल है और इसका विकास अभी शुरुवाती चरनो में हैं। ऐलेन ने इस प्रोजेक्ट के बारे में बताया कि हम अभी सार्थक आशिक मस्तिषक क अंतर फल से दुर हैं लगभग 4 या 5 साल दूर ।हमारी मकसद एक उपकरण को तैयार करना हैं जिसे हम मानव मस्तिषक् में प्रत्यारोपित कर सके।इससे हमें कई लाभ होंगें। इसका पहला औा अंतिम काम ये है कि यह इंसानो को कुत्रिम बुद्धि से जोड़ेगा जीससे हम कभी मशाीनो के द्वारा घुल में न मिला दिये जा सकें ।

ऐलेन मस्क के इस प्रोजेक्ट पुरी मानव परंपरा के लिए एक ब्रह्यस्त्र के तौर पर हैं जो भविष्य में मानवो पर मशीनो के संभावित खतरे को खत्म कर देगी। बहरहाल ये ऐलेन मस्क ने एक बात जता हि दिया हैं कि बाप हमेशा बाप हि होता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME