26 जून, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

अगर उस रात पिंकी की मदद पुलिस नहीं करती तो ना जाने क्या होता !

img-20161024-wa0056-1-copy

पंकज सिंह की रिपोर्ट
जहानाबाद, 25 अक्टूबर : घर में शराब बेचने और बनाने के धंधे से अजीज आ चुकी पिंकी ने हिम्मत नहीं हारी। इस जिद पर कायम रही कि न शराब बनायेगी और न बनाने देगी। उस पर जुल्म ढाये जाते रहे।उस रात इंस्पेक्टर अगर समय पर नहीं पहुँचे होते तो पता नहीं उसके साथ क्या हुआ होता। आखिरकार वह थाने पहुँच गयी। सास ससुर और देवर पर एफआईआर दर्ज करा दी।
महादलित समुदाय से आने वाली पिंकी बीए पास है साल 2010 में उसकी शादी हुयी थी बारात गया से जहानाबाद के ऊंटा मोहल्ले पहुंची थी शादी के बाद पिंकी अपने ससुराल गया के खटका पहुँची उसके ससुराल वाले देशी शराब बनाया करते थे। महुआ से देशी शराब बनाना उनका पुस्तैनी पेशा था। इस पेशे में सास ससुर और देवर लगे थे। महुआ बनाने के लिये सास,ससुर,देवर ने पिंकी पर दबाब बनाना शुरू किया। दबाब बनाने के क्रम में उसके साथ मारपीट भी की जाने लगी। साल 2012 में पिंकी का चयन गया के खड़काचक में टोला सेवक में हो गयी निरक्षरों को साक्षर बनाने की मुहिम में शामिल होकर साक्षरता आंदोलन से जुड़ गयी। इसी बीच शराबबंदी कानून लागू हो गया। इसके बाद पिंकी पूरी तरह से शराबबंदी कानून के पक्ष में उतर पड़ी।पुश्तैनी कारोबार का मुखर हो कर विरोध करना शुरू कर दिया। शराबबंदी कानून लागू होने के बाद उसकी ससुराल में रेड भी पड़ी। तीन दिन पहले पिंकी की पति बाहर गये हुये थे। पिंकी को कमरे में बंद कर उसके साथ सास, ससुर और देवर द्वारा मारपीट कर उसे घर से बाहर निकाल दिया।पिंकी ने हिम्मत नहीं हारी वह विष्णुपथ थाने जाकर शिकायत की। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए पिंकी के घर छापेमारी की और उसके ससुर को गिरफ्तार कर लिया। डरी सहमी पिंकी अपने चार बच्चों का ख्याल रखते हुए वह ससुराल न रहकर अपने मायके जाने की बात कही। विष्णुपथ थाने की पुलिस ने भी सुरक्षित पिंकी को स्टेशन तक छोड़ दिया। पिंकी कहती है कि उस रात अगर पुलिस मदद नहीं करती तो पता नहीं क्या होता मेरा।
बहरहाल शराबबंदी के पक्ष में उतरी टोला सेवक पिंकी की कहानी राज्य के तमाम साक्षरता कर्मियों तक पहुँच चुकी है उसके पक्ष में तमाम साक्षरता कर्मी एकजुट है उसकी तारीफ कर कार्रवाई करने की मांग कर रहे है।

ये भी पढे़ं:-   युवा चाहें तो शिवहर की धरती पर क्रांति ला सकते हैं और क्रांति से ही शिवहर की दशा और दिशा बदल सकती है

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME