17 जनवरी, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

बिहार के इस गाँव में जहरीले कोबरा के संग खेलते हैं बच्चे

logo-1

समस्तीपुर, 3 जनवरी। बिहार के इस गांव में सांप के डसने से नहीं होती किसी की मौत। आप को यह बात जान कर बहुत आश्चर्य होगा कि सांप के डसने से मौत नही होती। आप सोच रहे होंगे की सांप एक ऐसा जहरीला जीव है जिसके डसने से इंसान की पल भर में मौत हो जाती है। आप को बताते चलें कि बिहार के समस्तीपुर इलाके में सिंघिया घाट नाम का एक गांव काफी चर्चित है। इस गांव में सांप का काटना आम बात है क्‍योंकि यहां सांप के डसने से किसी भी इंसान की मौत नहीं होती। यहां रहने वाले कई लोगों को सांप काट चुका है लेकिन ये आज तक जिंदा हैं।

मुख्यमंत्री के आवास में सांप मिलने से मचा हडकंप, मौके पर पंहुचे वन विभाग के अधिकारी

यहाॅ के लोगो को सांप काटना आम बात है। स्‍थानीय लोगों का मानना है की उनके ऊपर मां भगवती का आशीर्वाद है। इसलिए उन्‍हें कोई सांप काटता भी है और तो कोई असर नहीं होता। यहां पर नागपंचमी के खास मौके पर लगने वाले सांपों के मेले में लोग उनके साथ खेलते हैं। जिसे देखने दूर-दूर से लोग आते हैं। आप को बता दें ये लोग कोबरा के साथ खेलते हैं। सांप मे सबसे ज्यादा जहरीला सांप माना जाने वाला कोबरा है। लेकिन यहां आपको हर घर में कोबरा सांप मिल जाएगा। ये लोग कोबरा जैसे जहरीले सांपों को पकड़ कर घरों में रखते हैं और उनके साथ खेल भी दिखाते हैं। यहाँ के बच्चे हों या बुजुर्ग सब लोग सांप के साथ खेलते हैं। यहाँ के बच्चे खिलौनों की जगह सांप से खेलते हैं। बच्चे गले में लपेट लेते हैं सांप।

‘जिस माँ के कोख से बाल-गोपाल विषधर ने जन्म लिया, उस माँ का है रो-रोकर बुरा हाल’

यहाँ के बुजुर्ग का कहना है कि उनकी लोगों की पूरी जिंदगी इन्‍हीं विषैले सापों के बीच गुजरी है। ग्रामीणों के मुताबिक इस गांव में सांपों का ये मेला पिछले 300 वर्षों से लग रहा है और हर साल इसी तरह लोग उनके साथ खेल दिखाते हैं। नाग देवता की पूजा इस गांव के सभी घरों में की जाती है। पूजा के बाद घर के सभी सदस्य परंपरा के अनुरूप दही के साथ नीम का पत्ता ग्रहण करते हैं। इस अवसर पर जहरीले देवता को दूध एवं धान की चढ़ाने की भी परंपरा है। इतना ही नहीं ये लोग सांप को पकड़ने के बाद उसकी पूजा कर अपनी मनोकामना पूरी होने की मन्नत भी मांगते हैं।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME