27 मार्च, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

’15 लाख नहीं मिले तो इसका मतलब आम जनता का फेक-एनकाउंटर’

500-and-1000-rupee-notes-af

पटना, 14 नवंबर : लालू प्रसाद यादव ने नोटबंदी को लेकर केंद्र सरकार पर बेहद धारदार निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट किया, अगर ये सब करने के बाद भी लोगों को 15 लाख नहीं मिले तो इसका मतलब होगा कि यह फर्जिकल स्ट्राइक था और इसके साथ ही आम जनता का फेक-एनकाउंटर भी। लालू मोदी नोटबंदी इस महीने की आठ तारीख को लागू हुआ था। इसपर लालू यादव ने पहली बार रविवार बयान दिया है। लालू प्रसाद यादव ने कहा कि हम काले धन के विरुद्ध हैं पर आपके कृत्य में दूरदर्शिता और क्रियान्यवयन का पूर्ण अभाव दिख रहा है। कम से कम आम आदमी की परेशानी का ख्याल रखना चाहिए। क्या सरकार 50 दिन के बाद आंकड़ा सार्वजनिक करेगी कि खातों में पैसे होने के बावजूद कितने लोग खाने और इलाज के अभाव और सदमे में मारे गए। क्या फिर मोदी जी, देश को भरोसा दीजिए कि जनता का 2 माह पूर्ण असुविधा देने और काले धन की उगाही के बाद सबके खाते में 15 लाख रुपये आएंगे?

आपको बताते चले कि लालू यादव ने पीएम मोदी से ट्वीट करके पूछा है कि अगर करप्शन और कालाधन समाप्त करना चाहते हैं तो 2000 रुपये का नोट क्यों बनाया। उनका कहना है कि इस पर देश को शंका है। मोदीजी बताएं कितने पूंजीपतियों का कितना लाख करोड़ बैंकों पर बकाया है और उसकी उगाही के लिए सरकार क्या कठोर कदम उठा रही है? देश जानना चाहता है। इस अभाव के कुएं में धकेलने के समय आपने कहा था कि यह कुछ दिनों की बात है, फिर वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इसे 15 दिनों की बात बताया और अब 50 दिन की बात की जा रही है। साथ ही लालू प्रसाद ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा कि क्या वह यह बताएंगे कि लोगों के लंबी कतारों में खड़े रहने की वजह से देश को कितने अरबों मानव कार्य अवधि और उत्पादन का नुकसान हुआ। लालू यादव ने मोदी जी से कहा कि नाटकीय भाषणों से आम जनता को न सांत्वना मिलेगी और न दुःखों का अंत होगा। लोगों की स्थिति काफी गंभीर दिख रही है। लोग परेशान हैं और आप भाषण पर भाषण पेल रहे हैं। मोदीजी, आप 50 दिनों की सीमित असुविधा की बात कर रहे हैं, तो क्या समझा जाए कि आपके वादानुसार 50 दिनों बाद सबके खातों में 15 लाख रूपये आ जाएंगे।

ये भी पढे़ं:-   छठ मनाने घर आ रहे यात्री के साथ लूटपाट, तेज़ाब से हमला

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME