08, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

बिहार की इन लड़कियों ने किया कमाल, इनका कारनामा जानकर चौंक जायेंगे आप

jukhujilojh

newsofbihar.com डेस्क
पटना, 09 नवम्बर। लड़कियां आज किसी भी मामले में लड़कों से कम नहीं हैं। राजनीति से लेकर खेल-कूद तक, हर जगह लड़कियों ने अपनी प्रतिभा से सबको अचंभित किया है। जब पूरे विश्व में महिलाएं और लड़कियां पुरुषों को पीछे छोड़ रही हैं तो भला बिहार की लड़कियां कैसे पीछे रहती। हम बात कर रहे हैं मगध महिला कॉलेज में पढने वाली उन छः लड़कियों की जिन्होंने पुरुषों का व्यवसाय कहे जाने वाले व्यापर जगत में अपनी सफलता से सबको आश्चर्यचकित कर दिया।
आपको बता दें कि लड़कियां webby_do_patna नाम से इन्स्टाग्राम हैंडल चला रही हैं। उन्होंने सोशल मीडिया को मनोरंजन के साधन के बजाय आमदनी का जरिया बनाया। लड़कियां इस इन्स्टाग्राम हैंडल का प्रयोग बिजनेस प्लेटफार्म के रूप में कर रही हैं।
मगध महिला कॉलेज में बीसीए प्रथम वर्ष में पढने वाली काजल, आयुषी, सिमरन, अवनीत, अंकिता और रीमा ने बताया की इनको यह आईडिया दोस्तों से मिला। उन्होंने इस बिजनेस की शुरुआत 4 महीने पहले की। अबतक उनके पास 10 हजार रूपये के आर्डर भी आये हैं। जिसकी डिलीवरी वे कर चुकी हैं। कॉलेज की शिक्षक शशि शर्मा ने इस बाबत बताया कि अगर गर्ल्स स्टूडेंट सोशल मीडिया का सकारात्मक उपयोग कर रही हैं तो यह बहुत अच्छा कदम है। वहीं लड़कियों ने बताया कि वो स्टूडेंट्स हैंडीक्राफ्ट्स के सामन जैसे बंधनवार, पेपर ज्वेलरी, क्युलिंग आर्ट, फोटो फ्रेम आदि की तस्वीरें इन्स्टाग्राम पर पोस्ट करती हैं। इन आइटम्स पर प्राइस टैग लगा होता है। उन्होंने हर सामान का सेक्शन बांट दिया है। जिसके बनाए सामान का खरीदार आता है, स्टूडेंट्स उसे जानकारी देती हैं। खरीदार कमेंट कर सामान की जानकारी लेता है। साथ ही ग्राहकों को लुभाने के लिए स्टूडेंट्स को विशेष छूट दिया जा रहा है। कस्टमर का आर्डर मिलने पर लड़कियां उन्हें किसी जगह बुलाकर सामान देती हैं। कई ग्राहक जो आसपास के क्षेत्र में होते हैं उन्हें लड़कियां खुद जाकर सामान पहुंचा देती हैं। अगर आर्डर पटना के बाहर से आता है तो उन्हें सामान कुरियर से भेजा जाता है।हालांकि, कूरियर का पैसा कस्टमर्स को ही देना पड़ता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME