28 जून, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

मेरे भाई को इराकी कैद से आजादी दिलवा दीजिए मैडम सुषमा, दलाल के चंगुल में ऐसे फंस जाते हैं मासूम बिहारी !

Purbi-champaran

ऋषिकेश आजाद की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

पूर्वी चंपारण, 06 सितम्बर। अवैध तरीके से एक गरीब भारतीय नागरिक को विदेश ले जाए जाने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया है। बताया जा रहा है कि पहले फर्जी वीजा पर इस शख्स को इराक भेजा गया और बाद में वहां बेच दिया गया।

क्या है मामला

पूर्वी चंपारण जिले के रक्सौल थाना क्षेत्र के मो. सैफुल आजम नाम के एक व्यक्ति ने विदेश मंत्रालय को दिए एक आवेदन में प्रशासन से अपने भाई को बचाने का आग्रह किया है।

जानकारी अनुसार पीड़ित रौफुल आलम को जून 2016 में काम करने के लिए दुबई भेजा गया था। लेकिन कुछ ही दिनों के बाद उसे काम के सिलसिले में इराक भेज दिया गया। वहां उसे एक अब्बुअली नाम के इराकी के हाथों बेच दिया गया। पीड़ित परिवार के अनुसार उसके भाई को जिस दलाल ने विदेश भेजा था उसका नाम कलाम कोईनी है वह गोपालगंज का रहने वाला है। उधर इराक में फंसे सभी लोग बिहार झारखण्ड के रहने वाले हैं। कुछ दिनों पूर्व ही पीड़ित ने अपने भाई को बताया था कि वहां उस से गलत काम करवाया जा रहा है, और काम न करने पर उस पर अनेकों प्रकार के अत्याचार किए जा रहे हैं।

रौफुल के अनुसार उसके साथ और 11 लोगों को बंधक बना कर रखा गया है। इराकियों का कहना है की उनलोगों ने सबको एक एक हजार डॉलर में खरीदा है। यदि कोई घर जाना चाहता है तो पैसे दे कर अपने-अपने घर जा सकता है। रौफुल के मुताबिक उसके चार साथी पैसा चुका कर वापस आ रहे थे लेकिन उनको भी एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया गया।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

ये भी पढे़ं:-   ये शिवहर है श्रीमान, यहाँ सरकारी कार्यालयों में दिन में भी बल्ब जलता है और गाँवों में रातों को रहता है अँधेरा

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

ऐक विचार साझा हुआ “मेरे भाई को इराकी कैद से आजादी दिलवा दीजिए मैडम सुषमा, दलाल के चंगुल में ऐसे फंस जाते हैं मासूम बिहारी !” पर

  1. M.K.Azam September 6, 2016

    ऐसे मानव तस्कर को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए ,ना दलाल का नाम है कलम आज़ाद हरामी से भी बड़ा माहा हरामी का काम है माधरचोद का ।

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME