18 अगस्त, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

उफ़ निर्भया तेरी मौत से बहुत आहत हूँ मैं… हां निर्भया… बेटी मैं अपराधी हूँ

jigig

newsofbihar.com डेस्क

जमुई, 1 जनवरी।

निर्भया कांड से जुड़ी बात को लेकर बिहार में एक सैप जवान ने किताब लिखी है। इस किताब लिखने वाले का नाम है मनोज कुमार पांडेय। जो जमुई थाना में टाउन थाना में वायरलेस आॅपरेटर के पद पर कार्यरत है। उसने इस किताब का नाम रखा है ‘बेटी मैं अपराधी हूँ’। सैप का कहना है कि यह किताब उन बेटियों के लिए है जो दुष्कर्म की शिकार होकर मौत की नींद सो गईं, उन बेटियों को यह किताब समर्पित है।

आपको बता दें कि मनोज का कहना है कि इस व्यवस्था को राकने के लिए हमने कलम को ही आवाज बनाया हैै। इस अपराध को लेकर बेटी के पिता कुछ नहीं कर पाते है। खुद की बेटी होने के बाद भी पिता मजबूर हो जाते है। बस वे अपने आप को अपराधी मनाते हैं कि मैं अपनी बेटी को नहीं बचा सका। दहेज हत्या, गर्भ हत्या और बलात्कार जैसे मामले अक्सर कानून की पेंचीदगी में उलझकर रह जाती हैं। दरअसल, मनोज सेना से रिटायर होने के बाद बिहार में सैप ज्वाइन किया था। उन्होंने ने अपने किताब में लिखा है कि बता तुझे मैं क्या दूं बेटी, जीवन में कुछ दे न सका, अंतिम यात्रा सफल हो तेरी, ईश्वर से मांग रहा।

साथ ही उन्होंने बताया कि सेना की नौकरी के दौरान उनका सामाज से कोई उतना लगाव नहीं रहा है। नौकरी से रिटायर होने के बाद मेरा समाजिक सरोकार जीवित हुआ, 16 दिसंबर 2012 को दिल्ली में घटित निर्भयाकांड़ ने मुझ पर काफी प्रभाव छोड़ा। मनोज के अनुसार हमने प्रशासनिक व्यवस्था की झूठी प्रतिष्ठा को बचाने के लिए बेटी की प्रकृति उसके नाम व परिवार को अस्तित्वहीन कर दिया। बराबर यह अत्याचार उन्हें व्यथित करता था। बता दें कि 16 दिसंबर 2012 को 32 साल की निर्भया के साथ दिल्ली में चलती बस में गैंगरेप हुआ था। इसके बाद पांचों ने उसकी बेरहमी से हत्या कर दी थी।

ये भी पढे़ं:-   मधुबनी : आरकेस्ट्रा देखने गई महादलित युवती से गैंग रेप, थाना प्रभारी ने किया एफआईआर दर्ज करने से मना!

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

ऐक विचार साझा हुआ “उफ़ निर्भया तेरी मौत से बहुत आहत हूँ मैं… हां निर्भया… बेटी मैं अपराधी हूँ” पर

  1. Rakesh Mishra January 4, 2017

    बलत्कारीयों को सरेेअाम फाँसी हो ा

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME