06, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

रियल स्टोरी आॅफ ए विलेन : इस एक थप्पड़ ने शहाबुद्दीन को बना दिया बाहुबली !

shahbuddinb

file photo

पटना, 10 सितम्बर। अंततः 11 वर्षो के बाद आरजेडी नेता और पूर्व सांसद शहाबुद्दीन जेल से बेल पर छूट ही गया। रिहाई काफिले में एक से एक रसूखदार नेता, विधायक और मंत्रियों ने भाग लिया। चारो ओर शहाबुद्दीन को लेकर चर्चा का बजार गर्म हैं लेकिन क्या आप जानते है कि साधारण से लेकर शहाबुद्दीन ने बाहुबली तक का सफर कैसे तय कर लिया।

शहाबुद्दीन के बाहुबली बनने की कहानी 15 मार्च 2001 को लालू की पार्टी के नेता मनोज कुमार को गिरफ्तार करने आए पुलिस ऑफिसर संजीव कुमार को थप्पड़ मारने से शुरू हुई थी। इस घटना ने बिहार पुलिस को झकझोरकर रख दिया था। इसके बाद पुलिस ने तुरंत राज्‍य टास्‍क फोर्स और यूपी पुलिस के साथ मिलकर शहाबुद्दीन के गांव और घर को घेर लिया। इसके बाद शहाबुद्दीन के समर्थकों और पुलिस के बीच काफी लंबी झड़प हुई। थप्पड़ मारने वाले शहाबुद्दीन की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने छापेमारी की। इस दौरान शहाबुद्दीन समर्थकों और पुलिस के बीच गई घंटों तक गोलीबारी हुई। इस घटना में 10 लोग मारे गए और पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा। तभी से शहाबुद्दीन एक बाहुबली के रूप में पहचाना जाने लगा।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

7 विचार साझा हुआ “रियल स्टोरी आॅफ ए विलेन : इस एक थप्पड़ ने शहाबुद्दीन को बना दिया बाहुबली !” पर

  1. sanjeev shakya September 10, 2016

    lok tantra ki bejjati to sabse adhik safed pos neta hi karte hai aam public ki kya haisiyat hai agar lalu sahabuddhin ko jail se riha nhi karate to unka poltical career hi khatare me ho jata agar dekh hinsa aur bhrashtachar se grahst hai to uske jimmedar dar sirf or sirf ye neta hi hai

  2. मोहम्मद अफ़रोज़ कैशर September 10, 2016

    जीत हमेशा सच की ही होती है।

  3. Ranjeet jha September 11, 2016

    बिहार सरकार द्वारा साहबुद्धीन की जमानत करने में पुरन्तह सहयोग, प्रशासन द्वारा निर्धारित समय सीमा के अन्दर टरायल न चलाना, सरकारी वकील द्वारा सही दलील न देना, जिसके उपर ५० से अधिक अपराधीक मामले दर्ज हो उसकी जमानत होना, सरकार एवं न्यायलय ब्यवस्था पर से लोगों का विश्वास उठता जा रहा है

  4. Alam September 12, 2016

    मिडिया ऐसे नेता को बहूचरचित बना रहि जैसे कोई समाज सुधारक जेल से रिहा हुए हो!

  5. D.raj September 12, 2016

    Kanun safed pos bahubali ke samne
    Juk he jata hai ……..
    Pawor ta kamjor insan ke upar dikhata hai

  6. vishnu September 13, 2016

    Bihar ke log til ko tad banane wale hai

  7. shanti bhushan ojha September 13, 2016

    Sushasan me kuchh bhi ho Santa hai. Daru pio to jel
    Hatya karo to bel

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME