06, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

नवरात्रा विशेष : आज होगी देवी के पांचवें स्वरूप माँ स्कंदमाता की पूजा

sakandmata-1-05-10-2016-147

स्कंदमाता ममतामयी मां का रुप हैं। ये भगवान कार्तिकेय को गोदी में लिए हुए हैं। इसलिए इनकी पूजा से भगवान कार्तिकेय की भी पूजा हो जाती है। स्कंदमाता की विधि विधान से पूजा करने से संतानहीनों को संतान की प्राप्ति हो जाती है। मनोकामना मां स्कंदमाता की पूजा पवित्र और एकाग्र मन से करनी चाहिए। स्कंदमाता की उपासना से भक्त की सारी इच्छाएं पूरी हो जाती हैं। मां स्कंदमाता शेर पर सवार रहती हैं। उनकी चार भुजाएं हैं। ये दाईं तरफ की ऊपर वाली भुजा से स्कंद को गोद में पकड़े हुए हैं। नीचे वाली भुजा में कमल का पुष्प है।

1.शास्त्रों के अनुसार स्कंदमाता की कृपा से संतान के इच्छुक दंपत्ति को संतान सुख प्राप्त हो सकता है।
2.अगर बृहस्पति कमजोर हो तो स्कंदमाता की पूजा आराधना करनी चाहिए।
3.स्कंदमाता की विधि विधान से की गई पूजा से कलह-कलेश दूर हो जाते हैं। सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री देवी होने के कारण इनका उपासक अलौकिक तेज और कांतिमय हो जाता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

ऐक विचार साझा हुआ “नवरात्रा विशेष : आज होगी देवी के पांचवें स्वरूप माँ स्कंदमाता की पूजा” पर

  1. विजय शंकर, न्यू रामपुर, पटना October 6, 2016

    नवरात्रा में दुर्गा सप्तशती का 9 पाठ करने से घर में सुख, शांति, सम्रद्धि और आर्थिक परेशानियां दूर होती है। दुर्गा माँ अपने भक्तों का हर परेसानी को दूर कर देतीं है। सभी की दुर्गति को दूर करनेवाली है माँ दुर्गा। अपनी महिमा से माँ नौं ग्रहों से रक्षा करती हैं। जय माँ

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME