24 अप्रैल, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

आटा चक्की चलाने वाले की बेटी बनी चार्टर अकाउंटेंट !

gyhujfc

मोतिहारी, 19 जुलाई। कल तक उनकी पहचान एक आटाचक्की चलानेवाले के रूप में था। हांलाकि अब उनका पहचान उस बेटी के पिता के रूप में है जो अब सीए बन गई है। बताते चले कि प्रमोद अग्रवाल अब अपने सपनों से महज एक कदम दूर हैं। छोटी बेटी प्रिया ने सीए फाइनल की परीक्षा में बाजी मारी है तो बड़ी बेटी प्रीति अग्रवाल भी इस साल सीएस हो जाएगी। वह सीएस फाइनल से महज एक कदम दूर है। सिर्फ एक पेपर का रिजल्ट 25 अगस्त को आना है।

प्रिया के पिता प्रमोद अग्रवाल मोतिहारी स्टेशन स्थित पुश्तैनी कारोबार आटाचक्की की दुकान चलाते हैं। पढाई में ठीक होने के बावजूद पारिवारिक परिस्थितियों की वजह से उन्हें अपनी पढ़ाई छोड़नी पड़ी थी। इसका मलाल उन्हें है और अपने संतानों के पढ़ाई का भरपूर अवसर देकर इसका डैमेज कंट्रोल करना चाहते हैं।

प्रिया ने अपनी सफलता का श्रेय पिता प्रमोद अग्रवाल दिया है। बकौल प्रिया, अगर उनके अभिभावकों ने सामाजिक वर्जनाओं को तोड़कर उसे अकेले बाहर नहीं भेजा होता तो वह इस मुकाम पर नहीं पहुंचती। वहीं, मोतिहारी की बेटी प्रिया अग्रवाल ने सीए फाइनल की परीक्षा उतीर्ण कर एक बार फिर से साबित कर दिया है की छोटे शहरों की लड़कियां भी कहीं से कमतर नहीं है।

द इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया () द्वारा सोमवार को दोपहर में जारी परीक्षाफल में पूरे देश 11.36 फीसदी परीक्षार्थी सफल घोषित किये गए हैं। इस परीक्षा में शामिल कुल 40180 परीक्षार्थियों में 4565 उतीर्ण हुए है। इस रिजल्ट में प्रिया ने 52 फीसदी अंक अर्जित किया है, जबकि अखिल भारतीय स्तर पर टॉप करनेवाले परीक्षार्थी का अंक 76.63 फीसदी है।

ये भी पढे़ं:-   पढ़े शिक्षा मंत्री का कबूलनामा...कहा सरकारी स्कूलों में शिक्षा स्तर ठीक नहीं

इस उपलब्धि से मोहल्ले वासियों में भी हर्ष की लहर है। प्रिया के बड़े भाई प्रीतम अग्रवाल ने कहा कि- “प्रिया की यह उपलब्धि केवल मेरे परिवार के लिए ही नहीं बल्कि पूरे शहर वासियों के लिए भी गर्व की बात है।“

जून 2016 में चार्टर्ड अकाउंटेंट के लिए हुए कॉमन प्रॉफिसिएन्सी टेस्ट परीक्षा के परिणाम सोमवार को ही घोषित किया गया हैं।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME