11, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

बिहार की शिक्षा व्यवस्था को आईना दिखा रहा है झोपड़ी वाला यह स्कूल !

newsofbihar-147

बगहा। पिछले कुछ महीनों में बिहार के शिक्षा का जो पूरे देश में मजा़क बना है उसने बिहार की शिक्षा व्यवस्था को कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं छोड़ा। आए दिन मैट्रिक की परिक्षा में चोरी करते हुए विद्यार्थियों की तस्वीरें वायरल होना, चोरी करते हुए विद्यार्थियों का पकड़ा जाना। इन सभी ख़बरों से पहले ही बिहार की छवि भगवान भरोसे थी। लेकिन जो भी थोड़ी बहुत कसर बाकि थी इंटर टापर्स घोटाले की वजह से वो भी मिट्टी में मिल गई। इसकी भरपाई कब तक हो पाएगी शायद ये कहना अब मुश्किल सा लग रहा है। क्योंकि शिक्षा की बाग-डोर संभालने वाले फरिश्तें खुद को ही नहीं संभाल पा रहे है तो वो शिक्षा को क्या संभालेंगे।
शिक्षा विभाग की इसी नाकारी को सच साबित कर रहा है बिहार में खुले आसमां के नीचे चल रहा यह स्कूल। आपको बता दें कि यह स्कूल बगहा पिपरासी प्रखंड के सेमरा-लबेदहा के पास है। जिसके डायरेक्टर मौसम हैं। उन्हीं के आदेशानुसार ये स्कूल चलता है। जब बारिश होती है तो छुट्टी, ज्यादा धूप हो तो छुट्टी, ज्यादा ठंड हो तो छुट्टी। इतनी छुट्टियों की वजह से बच्चों की पढ़ाई पर काफी असर पड़ रहा था। करीब 250 बच्चों की पढ़ाई का नुकसान हो रहा था। इसकी भरपाई के लिए वहां के अभिभावकों ने एक झोपड़ी बनवा दी। लेकिन वो भी कुछ दिन के बाद किसी काम नहीं आया। करीब एक दशक पहले खुले इस स्कूल को बनवाने के लिए कई बार उच्च अधिकारियों को ज्ञापन दिया गया पर अभी तक इसकी हालत जस की तस पड़ी है। जानकारी मिली है कि इस स्कूल में 250 बच्चों को 4 टीचर पढ़ाते हैं और इस स्कूल के लिए गांव में 5 कट्ठा जमीन भी दी जा चुकी है पर बावजूद इसके लाल फीताशाही की वजह से निर्माण का कार्य एक इंच भी नहीं बढ़ा। इस गांव की सबसे चैंकाने वाली बात यह है कि यहां के लोगों ने हर घर में शौचालय का निर्माण करवाकर अपने गांव को बिहार का पहला शौचमुक्त गांव बनाया है। लेकिन मिसाल के तौर पर याद किए जाने वाले गांव में शिक्षा की हालत इतनी गंभीर होगी इसका किसी को अंदाजा तक नहीं था, और सिर्फ ये ही गांव नहीं बिहार के ऐसे कई स्कूल और बच्चे हैं जो अपने उद्धार की राह देख रहें हैं। अब देखना ये है कि बिहार सरकार और शिक्षा मंत्री इस स्कूल और इसके जैसे बांकी स्कूलों का उद्धार कब तक करती है ।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME