08, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

अदालतों का बोझ घटाने में मदद करें युवा अधिवक्ता : चीफ जस्टिस

af62a23a-6ef9-43ad-8b1f-1e2

कृष्ण कुमार की रिपोर्ट
बेगूसराय, 30 जुलाई : पूरे भारत में जहाँ 2 करोड़ मुकदमे अदालतों में पेंडिंग पड़े हैं वही बिहार में ही 25 लाख केस विभिन्न अदालतों में चल रहे हैं। अगर युवा अधिवक्ता चाहे तो अदालतों के सामने सही तथ्यों को रखकर मामला को तेजी से निपटाने में मदद कर सकते हैं। ये कहना है पटना हाइकोर्ट के चीफ जस्टिस मो. इकबाल अहमद अंसारी का। चीफ जस्टिस आज बेगूसराय के बीएमपी-8 के मंजू सेमिनार हॉल में “न्यायपालिका कल आज और कल” विषय पर आयोजित सेमिनार को सम्बोधित कर रहे थे। चीफ जस्टिस ने कहा की देश की अदालतों में न्यायधीशों की भारी कमी है और ज्यातर वकीलों के मुकदमा खीचनें के रवैये की वजह से मामले के निष्पादन में काफी वक़्त लग जाता है। सेमिनार को संबोधित करते हुए चीफ जस्टिस ने अधिवक्ता को अपनी जिम्मेवारी का बोध कराते हुए उनसे राज्यहित में काम करने और अदालत में मुक़दमे के बोझ को घटाने में मदद करने की अपील की। इससे पहले चीफ जस्टिस ने सिविल कोर्ट परिसर का निरीक्षण किया और कोर्ट परिसर में नवनिर्मित एडीआर भवन और वाटिका का उदघाटन भी किया। चीफ जस्टिस के साथ व्यवहार न्यायलय के निरीक्षी जज राकेश कुमार,जिला एवं सत्र न्यायधीश गंगोत्री राम त्रिपाठी समेत अन्य न्यायायिक पदाधिकारी मौजूद थे। वही बिहार युवा अधिवक्ता कल्याण समिति की ओर से संयोजक राममूर्ति सिंह, प्रभाकर महाराज, प्रभाकर वर्मा, वीरेंद्र कुमार साहू एवं अन्य अधिवक्ता ने चीफ जस्टिस एवं सभी अथितियों का बुके देकर स्वागत किया। चीफ जस्टिस के कार्यक्रम को लेकर जिला प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतेज़ाम किया था।वही नगर निगम के मेयर उपेन्द्र सिंह समेत अन्य गणमान्य लोगों ने भी चीफ जस्टिस का स्वागत सम्मान किया।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME