04, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

नोटबंदी के बाद पैसों की भारी किल्लत से जूझ रहा है मधुबनी जिले का ग्रामीण बैंक

klkjh

दीक्षा रानी की रिपोर्ट
मधुबनी, 25 नवंबर। हर तरफ पैसों की मारामारी है। हर बैंको में ग्राहकों की लंबी लंबी कतारें लगी है। लगे भी क्यु नहीं आखिर पैसे के बिना मिलता ही क्या है। ऐसे में बैंक ग्राहक तो हर जगह परेशान है ही, साथ ही आपको जानकार आश्चर्य होगा की जिले का उत्तर बिहार ग्रामीण बैंक भी पैसों की भारी किल्लत से जूझ रहा है। यह बैंक में पैसे की भारी किल्लत है। पिछले पंद्रह दिनों में कुल चार करोड़ रूपये क्षेत्रीय कार्यालय को उपलब्ध कराया गया। मधुबनी जिले के इस क्षेत्रीय कार्यालय के अधिनस्थ कुल 67 शाखा है। जिसमें लगभग साढ़े चार लाख ग्राहक भी है। 08 नबम्बर से पहले इस बैंक के सभी शाखाओ से ग्राहकों के द्धारा रोजाना तकरीबन ढाई करोड़ का निकासी किया जाता था साथ ही तीन करोड़ रूपये जमा भी किया जाता था।

बता दें कि नोटबंदी के बाद जमा किया जाने वाले धनराशी में तो बढ़ोतरी हुई लेकिन निकाशी शून्य हो गया। बैंक में लगभग पांच करोड़ के आसपास जमा हो रहे है लेकिन बैंक ग्राहकों को एक भी पैसा देने में असमर्थ है। बैंक का मानना है कि अग्रणी बैंक पैसे नहीं दे रही है जिस कारण से ग्राहकों को पैसे नहीं दिए जा रहे है। क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया की हमलोग ग्राहकों से ऑन डिमांड पैसे लेते है वे जब मर्जी पैसे जमा करा सकते है और उनके ऑन डिमांड के अनुसार निकाशी कर सकते है। लेकिन हमलोगों को अभी पैसे नहीं मिल रहा है इसके लिए हमलोग लगातार रिजर्व बैंक से पैसों की आपूर्ति के लिए लिखे है आशा है जल्द ही स्थिति सामान्य हो जायेगी। वही पैसे निकासी के लिए पहुचे हनुमान प्रसाद ने बताया की बैंक में पैसे की कमी है पैसे निकालने के लिए आया था लेकिन पैसे नहीं मिला प्रधानमन्त्री झूठ बोल रहे है लोगों को ठगने का काम कर रहे है। लोग मर रहे है और बैंक पैसा नहीं दे रहा है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME