बंद हो गया है आपका एयरसेल नंबर ! इस तरीको से करा सकेंगे दूसरे नेटर्वकों पर पोंर्ट

KNOW HOW TO PORT YOUR AIRCEL NUMBER
AIRCEL
Advertisement

पटना। हाल हीं में एयरसेल के के बंद होने की खबरे आइ्र है। एयरसेल के उपभोक्ताओ के सीम आचानक बंद होने से वे परेंशानियो का सामना कर रहे है। उन्हे समझा नहीं आ रहा है कि वे क्या करें। हालाकि एयरसेल ने बंद होने के बारे में अफवाहें खारिज करते हुए इसे प्रतिद्वंद्वियों द्वारा फैलाए गए एक द्वेष का रुप करार दिया। लेकिन बाद में उसने दिवालिएपन की बात कबूल ली।

aircel
aircel

बता दे कि एयरसेल ने अपने कस्टमरो को कहा है कि वे अपना नंबर किसी और नेटर्वक पर पोर्ट करवाले। बता दे कि मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधा ग्राहकों को मोबाइल नंबर बदले बिना भारत में विभिन्न दूरसंचार ऑपरेटरों के बीच स्विच करने की अनुमति देती है। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने एयरसेल को पोर्टिंग प्रक्रिया को कम करने के लिए ग्राहकों को अद्वितीय पोर्टेबिलिटी कोड (यूपीसी) प्रदान करने का निर्देश दिया है।
बता दे कि यह यूपीसी 15 अप्रैल, 2018 तक वैध होगा। आपको बता दे कि आप इस कोड को तीन तरीके से प्राप्त कर सकते है। एयरसेल ग्राहकों को यूपीसी कोड तीन तरीकों से दे रहा है। पहला एसएमएस, दूसरा आईवीआर कॉल, और तीसरा कस्टमर केयर केन्द्र के माध्यम से इस यूपीसी कोर्ड को पाप्त कर सकते है।
ये भी पढे़ं:-   BREAKING : स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस में लूट-पाट, यात्रियों के साथ मार-पीट और लाखों के समान लूटे

इसमें सबसे आम तरीका है एसएमएस का है जो उपयोगकर्ताओं में आम बात है, लेकिन ग्राहको की शिकायत के अनुसार उन्हे यह कोड प्राप्त एसएमएस के माध्यम से नहंी हो रहा है। जिससे लोंगो को अपने नंबर को लेकर चिुता हो रही है। ऐसे में अगर एसएमएस का तरीका काम नहीं कर रहा है तो इसके अलावा एयरसेल के ग्राहको के पास दो ओर तरीके है जिससे वे अपना नंबर पोर्ट करा सकते है।

एयरसेल से दूसरे नेटवर्क पर कैसे जाएं?


ग्राहक सेवा केन्द्र के जरिएः-
अगर एसएमएस पर ग्राहको को कोड जनरेट नहीं हो रहा है तो वे इसके लिए एयरसेल उपभोक्ता ग्राहक सेवा केंद्र पर जा कर इसे प्राप्त कर सकते है। इसके लिए ग्राहको को अपने साथ एयरसेल ग्राहक सेवा केंद्र पर आधार कार्ड और उसकी फोटो काॅपी और तस्वीरों सहित सभी महत्वपूर्ण केवाईसी दस्तावेजों को साथ ले जाना होंगा। लेकिन आपको इन केन्द्र पर उपभोक्ता की वर्तमान स्थिति को देखते हुए आपको भीड़ का सामना करना पड़ सकता है।
mnp
mnp

आईवीआर काॅल के जरिए:- इसके अलावा वैकल्पिक रूप से, एयरसेल के ग्राहक एयरसेल ग्राहक सेवा संख्या को कॉल कर सकते हैं जहां आईवीआर मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी प्रक्रिया के माध्यम से आपको नंबर पोर्ट कराने की सुविधा मिल सकती है। इन नंबरों को अन्य नेटवर्कों से भी बुलाया जा सकता है, जिसका मतलब है कि अगर आपका एयरसेल नेटवर्क काम नहीं कर रहा तो आप तो आप किसी भी एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया सेल्यूलर, बीएसएनएल या जीओ नंबर से ग्राहक सेवा को कॉल कर सकते हैं।
ये भी पढे़ं:-   दो शख्स ने दिया इंसानियत का परिचय, रेल से गिरी महिला और बच्ची का बचाया जान

आईवीआर तक पहुंचने पर, आपको अपनी पसंदीदा भाषा चुनने के लिए कहा जिसमें आप अपनी समझा ककी भाषा चुन सकते है। इसके बाद आपको अपने एयरसेल नंबर और अपने एयरसेल सिम कार्ड के अंतिम पांच अंक प्रदान करने की आवश्यकता होगी। आवश्यक सूचना देने के बाद, आईवीआर आपके लिए एक यूपीसी कोड जेनरेट करेगा। जो 15 अप्रैल तक वैलिड होंगा। यह यूपीसी अन्य नेटवर्क द्वारा मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी प्रक्रिया शुरू करने के समय इस्तेमाल किया जाएगा।

Advertisement