24 अगस्त, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

अजित की ईमानदारी का किस्सा सुनकर आप कह उठेंगे ….कुछ मिठा हो ही जाए !

Haldirams

नोएडा, 6 अगस्त। ईमानदारी…ये वो शब्द है जो आजकल विलुप्त होती जा रही है। लेकिन कई बार हमें ऐसे उदाहरण देखने को मिल जाते हैं जब हमारा ईमानदारी पर हमारा विश्वास दोबारा कायम हो जाता है। टीवी और अखबारों में कई किस्से सुनने को मिल जाते हैं कि जब कोई शख्स ईमानदारी की मिसाल कायम करते हुए लाखों रुपये वापस लौटा देते हैं। आज हम एक ऐसा ही किस्सा आपको बताने जा रहे हैं लेकिन इस बार बाद पैसों की नहीं मिठाई की है। अगर पैसों पर मन डोल जाता है तो भला मुफ्त की मिठाई देखकर किसका मन ना ललचा जाए। एबीपी न्यूज के वरिष्ठ पत्रकार अजित झा जो कि बिहार के मधुबनी जिले के रहने वाले हैं। अजीत जी ने सोशल मीडिया साइट फेसबुक पर अपना एक अनुभव साझा किया है आप लोग भी पढिए उनकी ही जुबानी…

“दोस्तों, कल नोएडा के हल्दीराम से मिठाई लाने गए थे. 4-5 तरह की मिठाई थी डिलीवरी काउंटर पर मुझे 1 डिब्बा ज्यादा मिठाई दे दी. मैं ये वहां ये समझ नहीं पाया, जब दोपहर 2 बजे घर पहुँचा तो इसका पता चला. नाइट शिफ्ट होने की वजह काफी थक चुका था. मगर किसी और की मिठाई मेरे पास आ जाने से पता नहीं अंदर से अच्छा नहीं महसूस कर रहा था. बाहर धूप भी काफी तेज थी मन कर रहा था कोई बात नहीं सो जाता हूँ लोकिन मन में हलचल मची थी. पूरी बात समझने के बाद पत्नी ने सलाह दी जाकर मिठाई वापस कर आइए. दरअसल कल पत्नी का जन्मदिन भी था इसलिए उतनी धूप के बावजूद मैं बात टाल नहीं सका. बाइक उठाई और पहुंच गया हल्दीराम. वहां शशि नाम के मैनेजर को बताई की ये किसी और की मिठाई मेरे पास चली गई थी सो वापस करने आया हूँ, मैनेजर ने मुझे देखकर कहां साहब आज के जमाने कौन ऐसा करता है क्या आप कुछ लेंगे. मैंने धन्यवाद कहकर बताया कि किसी और की मिठाई लौटाकर मुझे काफी सुकून मिला है 1 घंटे से ये छिन गया था अब मुझे कुछ नहीं चाहिए. सच कह रहा हूँ दोस्तों उसके बाद घर पहुंच कर काफी अच्छी नींद आई”
https://www.facebook.com/ajeet.jha.315

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

ये भी पढे़ं:-   डीएम दे रहे थे भाषण और कुर्सी से नीचे गिर गये विधायक !

कहने को तो ये बात बेहद छोटी सी है लेकिन सवाल नीयत का है। नाइट शिफ्ट करने के बाद थके मांदे अजित झा चाहते तो मिठाई का पैकेट वापस लौटाने नहीं जाते लेकिन उनकी अंतरात्मा अंदर ही अंदर उनको कचोट रही थी। और मिठाई वापस लौटाने के बाद जो उनको संतुष्टि मिली उसकी मिठास मिठाई से कहीं ज्यादा थी।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME