22 अगस्त, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

अज्ञातवास के समय अर्जुन ने बिहार के इसी शिव मंदिर में छुपा कर रखा था गांडीव धनुष !

imgonline-com-ua-twotoone-mrvyAH2LtSej

newsofbihar.com डेस्क
11 जुलाई 2017

सावन का महीना है और जैसा की हम सभी जानते हैं कि सावन का मास भगवान शिव को प्रिय है। अपने आराध्य भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए भक्तगण इस महीने में विशेष पूजा करते हैं। आज हम आपको बिहार के एक ऐसे शिव मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके पौराणिक महत्व को जानकर आप चकित रह जाएंगे। मधुबनी जिले के बेनीपट्टी अनुमंडल मुख्यालय से 15 किमी दूर स्थित है शिवनगर गांव। इसी शिवनगर गांव में अति प्राचीन गांडीवेश्वर नाथ महादेव स्थान है। ऐसी मान्यता है कि महाभारत काल के दौरान जब पांडवों को कौरवों ने अज्ञातवास दिया था तब पांडव इस स्थान पर पहुंचे थे। मान्यताओं के मुताबिक अर्जुन ने इसी गांडीवेश्वर स्थान में शमी के वृक्ष पर अपने धनुष गांडीव को छुपाकर रखा था। मान्यता तो ये भी है कि यहीं पर अर्जुन ने गांडीवेश्वर महादेव की पूजा अर्चना की और उसके बाद ही भगवान शिव ने अर्जुन को पाशुपतास्त्र भी प्रदान किया था।

गांडीवेश्वर स्थान की उत्तर दिशा में एक गौरीशंकर मंदिर भी स्थित है। यहां 7 सिढियां नीचे उतरकर श्रद्धालु भगवान गौरीशंकर की पूजा करते हैं। यहां पर शिवलिंग में धनुष का निशान भी अंकित है। कहा जाता है कि भगवान गांडीवेश्वर नाथ महादेव की सच्चे मन से पूजा करने वालों की सभी मनोकामना पूर्ण होती है।

फोटो साभार : www.maithilmanch.com

फोटो साभार : www.maithilmanch.com

मंदिर के पुजारी पंडित त्रिलोकनाथ झा का कहना है कि इतने पौराणिक महत्व के दिव्य स्थल को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने की जरूरत है। स्थानीय लोग बताते हैं कि इतने पौराणिक और ऐतिहासिक दिव्य स्थल को बिहार सरकार अब तक विकसित नहीं कर पाई है। हालांकि पूर्व भाजपा नेता स्व. ताराकांत झा ने गांडीवेश्वर स्थान को विकसित करने का अथक प्रयास किया था लेकिन स्थानीय जनप्रतिनिधियों और राज्य सरकार की बेरूखी का खामियाजा गांडीवेश्वर स्थान को भुगतना पड़ रहा है। जरा सोचकर देखिए कि अगर इतने पौराणिक महत्व वाला ये स्थल किसी दूसरे राज्य मे होता तो यहां प्रति साल हजारों-लाखों श्रद्धालु दर्शन करने के लिए पहुंचते लेकिन दुर्भाग्य की बात ये है कि हमारे बिहार के लोगों को भी अपने यहां के महत्वपूर्ण स्थानों के बारे में जानकारी नहीं है।

फोटो साभार : www.maithilmanch.com

फोटो साभार : www.maithilmanch.com

दर्शन के लिए गांडीवेश्वर स्थान पहुंचने का रूट

बस और ट्रेन रूट से आप मधुबनी पहुंच सकते हैं। मधुबनी से बेनीपट्टी होकर शिवनगर स्थित गांडीवेश्ववर स्थान पहुंचने के लिए बस के अलावा भी कई साधन उपलब्ध हैं। newsofbihar.com आप सभी श्रद्धालुओं और शिवभक्तों से निवेदन करता है कि इस सावन महीने में अगर संभव हो तो एक बार दर्शन करने के लिए यहां जरूर पहुंचे एवं सोशल मीडिया के माध्यम से भी इस स्थान के बारे में प्रचार प्रसार करें ताकि सरकार की नींद खुल सके और इस दिव्य स्थान का कायाकल्प हो सके। अपने ऐतिहासिक और पौराणिक महत्व वाले स्थान को विकसित करने में हम सबको मिलकर सहयोग करना चाहिए।

ये भी पढे़ं:-   लालू हुए 'पेंशनधारी'... अब लेंगे पेंशन और मिटायेंगे टेंशन
f251e27d-55b0-4ff4-9cfe-69f80383f65f

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME