24 जून, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

रक्षा बंधन के ठीक एक दिन पहले बहन की रक्षा करने में हुई भाई की मौत !

Gaya

गया, 17 अगस्त : गुरुवार को धनिष्ठा नक्षत्र में सूर्योदय के बाद जब बहनें थाल लेकर अपने भाइयों को तिलक लगाकर उनकी कलाइयों में रक्षा बंधन बांध रही होंगी तब तक एक बहन की जान बचाने वाले भाई की चिता की आग ठंडी हो चुकी होगी। घटना गया जिले के शेरघाटी प्रखंड के महुआवां गांव की है। शेरघाटी अनुमंडल मुख्यालय से मील-भर दूर महुआवां गांव के विनोद को मंगलवार की आधी रात एक काले नाग ने तब डस लिया। जब उसने अपनी बहन की वेणि (बालों के जूड़े) में गुंथे गेहुंवन को अलग करने की कोशिश में सांप की गर्दन पकड़ ली। गुस्साए सांप ने तब उसके हाथ में तीन-चार जगह काट लिया।

एक ही कमरे में रहता है पूरा परिवार
दरअसल सामानों की फेरी कर परिवार की जीविका चलाने वाले इस युवक के पिता रामजी साव लकवा के शिकार होकर बिस्तर पर हैं। उन्हें देखने के लिए तीन ब्याही बहनें भी आई हुई थीं। गरीबी के कारण पूरा परिवार एक ही कच्चे-खपरैल कमरे में रहता है। कमरे में जमीन पर तमाम भाई-बहन एक साथ ही सोते हैं। विनोद की पांच बहनें और तीन भाई हैं। पंद्रह साल की सुषमा बताती है कि सांप सबसे पहले उसके पैर पर चढ़ा और फिर ससरते हुए दीदी ममता देवी के जूड़े में घुस गया।

ममता चंद दिन पूर्व ही अपने ससुराल मोहनपुर से आई थी। हड़बड़ाकर उठे विनोद ने बहन की प्राण रक्षा के लिए सांप की गर्दन पकड़ ली। सिर से थोड़ा नीचे पकड़े जाने के कारण सांप ने सिर घुमाकर हाथ में तीन-तीन जगह डंस लिया। फिर भी भैया ने सांप को नहीं छोड़ा और वेणि से बाहर निकाल लिया।

ये भी पढे़ं:-   नो हॉर्न प्लीज, हमको जल्दी निकलना है.. सड़कों पर रोज होते हादसों का सच

दूसरी बहन गुड़िया देवी भी यही कहानी दुहराती है। शोर मचने के बाद घर और पड़ोस के लोगों ने किसी तरह सांप को उससे अलग कर एक बोरे में बंद किया और घायल विनोद को लेकर साढ़े बारह बजे रात में अनुमंडलीय अस्पताल पहुंचे। चिकित्साकर्मियों ने उसका प्राथमिक उपचार कर रात में ही गया रेफर कर दिया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। विनोद और उसकी बहन ममता के इस प्यार की कहानी लोगों के जुबान पर है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

सौर्स ः हिंदुस्तान

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME