29 अप्रैल, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

पहले मिठाईवाले को खिलाओ मिठाई उसके बाद ही खरीदना दिवाली पर मिठाई ! वजह जानकर आप भी यहीं करेंगे..

mithai-1

मो0 हसनैन कि रिपोर्ट

शिवहर, 26 अक्टूबर। खुशियों का त्योहार भी बिन मिठाई के पूरा नहीं होता। हर घर में एक से बढ़कर एक पकवान बनते तो है ही वहीं बाजार से मिठाई भी आती है। पर हमें सावधान रहने की जरूरत है। दीपावली को लेकर जिले में मिलावटी सामानों की बिक्री धड़ल्ले से की जा रही है। अगर हम मिलावटी समानों से दूर रहे तो इस दीपावली और छठ की खुशियां दोगुनी हो जाएगी। बाजार में मिलावट सामानों की बिक्री की बढ़ोतरी बढ़ती जा रही है। मिठाइयों से लेकर बाजार के हर समान में मिलावट कि जा रही है। मसालों मे भी मिलावट की बातें सामने आ रही है। मिलावटी खाद सामग्री फूड प्वाइजनिंग हृदय रोग जैसे गंभीर बीमारियों के खतरा बढ़ रहा है। ऐसे में हमें सतर्क रहने की जरूरत है।

ऐसे तैयार हो रहे मिलावटी सामान

दूध में पानी सरसों तेल में पॉम आयल ,व रसायन, घी में डालडा और सड़ा हुआ केला मिलाया जा रहा है।
खोवा में मैदा, पीसा हुआ चावल मिलाया जा रहा है
चने के बेसन में मटर व खुदी का पीसन मिल रहा है।
पनीर में कृत्रिम पाउडर, मैदा आरारोट मिलाया जा रहा है।
काली मिर्च में पपीता का बीज तो चीनी में सूजी का प्रयोग भी
मिठाइयों में मिलावटी खोआ का प्रयोग धड़ल्ले से हो रहा है

दीपावली और छठ जैसे महापर्व के दौरान मिलावटी खोआ का धंधा बढ़ जाता है। शुद्ध दूध की कीमत जहां 35 से ₹40 प्रति लीटर है। जबकि मिलावटी खोआ ₹120 से ₹200 किलो तक बिक रहा है।
1 किलो खोआ को बनाने में 6 से 8 लीटर दूध की आवश्यकता होती है। ऐसे में मिलावटी खोआ कि सस्ती दर पर बाजार में धड़ल्ले से बिकती है। असली खोआ की लागत प्रति किलो लगभग 300 से आती है। ऐसे में त्योहार की खुशियां दोगुनीं करने के लिए जहां हमें सतर्क रहने की आवश्यकता है, वहीं जिला प्रशासन को भी सतत निगरानी की जरूरत है ।

ये भी पढे़ं:-   लेडी सिंघम SP हरप्रीत कौर ने जीता गरीबों का दिल, कैमूर पुलिस का सराहनीय प्रयास !

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME