05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

इंटर-मैट्रिक परीक्षा 2017 के लिए बोर्ड ने जारी किया बड़ा अल्टीमेटम !

bseb-mattric-inter

पटना, 27 अक्टूबर : बिहार में शिक्षा विभाग को सुधारने की व्यापक तैयारियां चल रही है। नवंबर में होने वाली बिहार बोर्ड की कंपार्टमेंटल परीक्षा को कदाचार मुक्त बनाने के लिए बोर्ड ने सख्त निर्णय लेते हुए कहा है की अगर किसी भी परीक्षा केंद्र पर किसी भी पराक्र की शिकायत मिलती है तो इसके जिम्मेवार सिर्फ और सिर्फ उस परीक्षा केंद्र के केन्द्राधीक्षक होंगे। इस सन्दर्भ में सभी जिलों के एसपी, डीएम और जिला शिक्षा पदाधिकारियों को निर्देश दे दिया गया है।

बिहार बोर्ड के दिशा निर्देश के अनुसार (छात्रों के लिए)
– परीक्षा सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में होगी और इसकी वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी।
– परीक्षा केंद्र पर मोबाइल ले जाना प्रतिबंधित रहेगा।
– छात्र परीक्षा से जुड़े कागजात के अलावा कुछ भी केंद्र पर नहीं ले जा पाएंगे।
– परीक्षार्थियों के अलावा केंद्र पर किसी और को जाने की इजाजत नहीं होगी।

बिहार बोर्ड के दिशा निर्देश के अनुसार (केन्द्राधीक्षक के लिए)
– परीक्षार्थियों को प्रश्नपत्र देने के तुरंत बाद बचे हुए प्रश्नपत्रों को एकत्रित कर उसकी वास्तविक संख्या दर्ज करते हुए सील कर दें, ताकि दुरुपयोग हो।
-यदि किसी केंद्र पर कदाचार या अन्य कारण से पूरी पाली की परीक्षा रद्द हो जाती है, तो ऐसी स्थिति में जिला पदाधिकारी अपने स्तर से जांच के बाद दायित्व निर्धारित करेंगे कि किस स्तर लापरवाही हुई।
-परीक्षा केंद्र पर हुए कदाचार के मामले में निरीक्षण करनेवाले पदाधिकारी समय पर सूचना देंगे। इस बाबत किसी प्रकार की शिथिलता गंभीरता से ली जाएगी।
-प्रवेशपत्र के अनुसार छात्र-छात्राओं का विवरण उत्तरपुस्तिका के मुख्य पृष्ठ पर ओएमआर प्रपत्र में भरा जाएगा। ओएमआर प्रपत्र पर विवरण अंकित करने के लिए मुख्य पृष्ठ को दो भागों में बांटा गया है।
-केंद्राधीक्षक हर दिन परीक्षा केंद्र परिसर की सफाई कराएंगे, ताकि किसी तरह का चिट-पुर्जा परिसर में रहे। परीक्षा कक्ष के श्यामपट्ट पर विषयों के बारे में कुछ भी नहीं लिखा रहे।
– बढ़िया रिकॉर्ड वाले स्कूलों के शिक्षक ही करेंगे गार्डिंग
– परीक्षाकेंद्रों पर वैसे शिक्षकों को ही वीक्षक बनाया जाएगा, जिनका स्कूल का रिकॉर्ड बढ़िया होगा।
– किसी भी परिस्थिति में गैर शिक्षक एवं अन्य किसी कर्मचारी को वीक्षण कार्य में नहीं लगाया जाएगा।
– स्कूल का कर्मचारी भी नहीं ले जाएगा कोई कागजात
– परीक्षा में सरकारी कर्मचारियों की ही ड्यूटी पर लगाये जायेंगे।
– निजी मजदूरों या अन्य व्यक्तियों को पानी पिलाने के लिए भी नहीं रखा जाएगा।

बिहार बोर्ड के दिशा निर्देश के अनुसार (प्रशासन के लिए)
– परीक्षाके दौरान हर 4 केंद्र पर एक गश्ती दल की तैनाती होगी।
– गश्ती दल में जिले के आरक्षी अधीक्षक, जिला शिक्षा पदाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, अनुमंडल आरक्षी पदाधिकारी एवं अनुमंडल शिक्षा पदाधिकारी की बैठक बुलाकर स्टेटिक, गश्ती उड़नदस्ता दलों की प्रतिनियुक्त की जाएगी।
– परीक्षा के दौरान गश्ती दल हर केंद्र पर घूमकर परीक्षा का निरीक्षण करेंगे।
– कदाचार में लिप्त पाए जाने वाले किसी भी छात्र को तत्काल बर्खास्त कर दिया जाएगा।
– केंद्रों पर कदाचार की रोकथाम, शांति और विधि व्यवस्था सुनिश्चित करने की पूरी जिम्मेदारी डीएम की होगी।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME