24 जून, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

जिंदगी की चाह में नौ घंटे तक यमराज से लड़ते रहे 45 लोग, जानिए पुरी कहानी बाढ़ में फंसे लोगों की जुबानी!

13310754-little-yellow-scho

पटना, 23 अगस्त। बाढ़ को लेकर प्रशासन कितना सजग है यह किसी से छुपा नहीं हैं। जगह जगह बाढ़ पीड़ितों का गुस्सा प्रशासन पर उतर रहा है। बावजूद इसके प्रशासन ठोस कदम नहीं उठा रही हैं। ताजा मामला में प्रशासन की घोर लापरवाही उजागर हुई है। बताया जा रहा है कि रात भर नाव पर सवार 45 आदमी प्रशासन से मदद की गुहार लगाते रहे, लेकिन प्रशासन ने कोई मदद नहीं की।

इन लोगों के अनुसार गंगा की लहरों के बीच नौ घंटे का वह सफर हम जीवन भर नहीं भूल सकते हैं। जिन्दगी की चाह में हम लोग नौ घंटे तक यमराज से लड़ते रहें हैं।

जानकारी अनुसार रविवार की शाम राघोपुर के मोहनपुर से 45 लोगों को लेकर एक नाव शाम तकरीबन साढ़े चार बजे कच्ची दरगाह रवाना हुई। उम्मीद थी कि दो से तीन घंटे के अंदर फतुहा के निकट कच्ची दरगाह पहुंच जाएंगे। पर ऐसा हुआ नहीं। एक घंटे के सफर के बाद रुस्तमपुर और सैदाबाद के बीच अचानक नाव में लगी मोटर की फैनबोल्ट टूट गया। नाव ने झटका मारा और दिशा बदल कर लहरों के संग हो ली। सवार लोग समझ नहीं पाए कि अचानक हुआ क्या। वह लगातार बेकाबू बहती रही।

नौजवान नाविक विजय राय को जब लगा अब स्थिति काबू से बाहर हो रही है तो उसने नाव में सवार मर्द और औरतों को जानकारी दी कि क्या हुआ है। नाव में चीख-पुकार मच गई। तमाम लोग नाविक की मदद में जुट गए। कोशिश थी कि नाव को किसी तरह से लहरों से बाहर लाया जा सके। तभी एक और गड़बड़ हो गई। नाविक के हाथ का बांस गंगा में गिर गया और नाव को किनारे पर लाने का अंतिम सहारा भी जाता रहा। फिर भगवान थोड़े मेहरबान हुए। नाव अचानक ही घास के झुरमुट में फंस गई। नाव में सवार लोगों ने उस झुरमुट को पकड़ लिया और नाव को किनारे लाने की कोशिश में जुट गए।

ये भी पढे़ं:-   बाढ़ में डूबने से मरे मृतकों के परिजनों को विधायक ने बांटा मुआवजा !

रात घिर आई थी। बारिश भी शुरू हो गई। नाव में सवार लोग चीख रहे थे। मदद की गुहार लगा रहे थे। लेकिन यह गुहार लहरों में ही बह गई। किनारे तक नहीं पहुंच पा रही थी।

प्रशासन से नहीं मिली कोई मदद
नाव में सवार सुरेन्द्र शर्मा, मनोज राय, अशोक कुमार, सुरेश राय, दिलीप कुमार, मिथुन कुमार ने अपनी आपबीती में एक बात पर खूब जोर दिया कि सरकारी मदद नहीं मिली। इन लोगों ने कहा, 19 बच्चे थे। महिलाएं थीं। जानकारी होने के बाद भी प्रशासन की ओर से उन्हें कोई मदद नहीं दी गई। न तो एसडीआरएफ मदद को आगे आया न ही एनडीआरएफ।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

ऐक विचार साझा हुआ “जिंदगी की चाह में नौ घंटे तक यमराज से लड़ते रहे 45 लोग, जानिए पुरी कहानी बाढ़ में फंसे लोगों की जुबानी!” पर

  1. Mukesh pujari August 23, 2016

    bhadh pirito ko sarkar jal se jald suraksha muhaiya karaye

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME