09, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

चोरी की मूर्ति के साथ तीन गिरफ्तार मूर्ति वापस लाने के लिए थाने पंहुचे ग्रामीण !

jgyut

सरफराज सिद्दीकी की रिपोर्ट

झंझारपुर, 04 सितम्बर: अंधराठाढी में मूर्ति चुराकर बेचने की फ़िराक में लगे कुछ लोगों को पुलिस ने मूर्ति के साथ शुक्रवार की रात गिरफ्तार किया है। हालाँकि कुछ लोग भागने में सफल रहे। बरामद मूर्ति कुल्हारिया के राधाकृष्ण मंदिर की है।

क्या है मामला
अंधराठाढी थाना के सहायक अवर निरीक्षक सियाराम शर्मा ने रात्रि गश्ती के दौरान एक संदेहास्पद स्थिति में कुछ लोगो से भरे टेम्पू देख उसका पीछा किया। पुलिस ने मरूकिया गांव स्थित रेलवे क्रासिंग के पास टेम्पू को पकड़ लिया। पुलिस को देख टेम्पू पर सवार आठ लोगो में पांच लोग कुद कर भागने में सफल रहे। जबकि तीन लोग को पुलिस ने चोरी की मूर्ति के साथ पकड़ लिया। बरामद बेशकीमती शिव पार्वर्ती की मूर्ति कुल्हरिया गांव स्थित दिघिया पोखर पर स्थित राधा कृष्ण मंदिर की है। मालूम हो की करीब साल भर पहले ही यह मूर्ति मिट्टी खुदाई के दौरान कुल्हरिया गांव में दिघिया पोखर से मिली थी। ग्रामीणो ने इस मूर्ति को दिघिया पोखरापर राधाकृष्ण की मंदिर में स्थापित किया था। पं हरिदेव झा के मुताबिक मूर्ति काले ग्रेनायट की और दसवी शताब्दी के पाल कालीन हो सकती है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में इसका मूल्य करोड़ो में आका जा रहा है। मूर्ति बरामद होने के बाद पंचायत के मुखिया कृष्णमुरारी मेहता जिला र्पााद राजकुमार सिंह आदि जनप्रतिनिधियो के नेतृत्व में कुल्हरिया गांव के सैकड़ो ग्रामीणो ने अंधराठाढी थाना आकर मूर्ति वापस करने की मांग पर अड़ गये। देखते ही देखते सैकड़ो महिला पुरुष की भीड़ थाने में जमा हो गयी। भारी भरकम भीड़ देख कर पुलिस ने इसकी सूचना वरीय पुलिस पदाधिकारी को दी। तत्काल हीं एसडीपीओ मो.फखरुद्दीन ने थाना पंहुचकर मामला को संभाला और लोगों को शांत कराया।

क्या कहते है अधिकारी

एसडीपीओ मो. फखरुद्दीन ने प्रेस से बात करते हुए कहा कि स्थानीय पुलिस प्रशासन ने काफी बहादुरी का काम किया है। पुलिस ये चोर अन्तराष्ट्रीय मूर्ति तस्कर गिरोह के सदस्य हो सकते है। बाकि फरार चोरों का भी पता चल गया है। वो लोग भी जल्द ही कानून के शिकंजे में होंगे। गिरफ्तार सभी लोग स्थानीय ही है तथा फुलपरास घोघरडीहा और लखनौर थाना के रहने वाले है। गिरफ्तार तीन शातिर बसंत कुमार दास, रंजन कुमार दास और पवन कुमार साह है। मुर्ति तस्कर के सरगना राम कुमार नाम का कोई व्यक्ति है। इसने पूछताछ जारी है और कई सुराग मिलने का अनुमान है। पुलिस प्राचीन और बेशकीमती इन मूर्तियों की सुरक्षा का पुख्ता बंदोबस्त करेगी।

क्या कहते है लोग

थाने में जमा सैकड़ो ग्रामीण ने कहा की ये मूर्ति उनके आस्था और विश्वास का प्रतीक है और वो हर हाल में इसे वापस ले जायेंगे।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME