04, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

Big Breaking: मोदी सरकार का बड़ा फैसला, जवानों को मुआवजा राशि बढ़ाने सहित दिए कई उपहार

modi_army_2690436f

newsofbihar.com डेस्क

पटना, 19 नवम्बर। केंद्र सरकार ने सैन्‍यकर्मियों के परिवार वालों को मिलने वाले मुआवजा राशि को बढ़ा दिया है। लोकसभा में एक लिखित जवाब में रक्षा राज्‍य मंत्री सुभाष भामरे ने बताया कि अगर आतंकी हमले में किसी जवान की मौत हो जाती है तो उनके परिजनों को 25 लाख रुपये दिए जाएंगे। अधिकारियों के लिए आर्मी ग्रुप इंश्‍योरेंस फंड को बढ़ाकर 60 से 75 लाख रुपये और जेसीओ व बाकी अन्‍य रैंक के जवानों के लिए 30 से 37.5 लाख रुपये किया गया है। परिवार को मिलने वाले मुआवजे में पहला बदलाव 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के समय हुआ था। अब दूसरा बदलाव 18 साल बाद हुआ है। इससे पहले शहीद जवान के परिवार वालों को 10 लाख रूपये की मुआवजा राशि दी जाती थी। इसी तरह से युद्ध, सीमा पर गोलीबारी या आतंकियों, उग्रवादियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान मौत होने पर मिलने वाली रकम को 15 लाख रुपये से बढ़ाकर 35 लाख रुपये किया गया है।

सरकार के इस फैसले का फायदा सियाचिन ग्‍लेशियर में शहीद हुए हनुमनथप्‍पा को भी मिलेगा। हनुमनथप्‍पा इसी साल मई महीने में शहीद हुए थे। इससे पहले भारतीय सेना के पूर्व सैनिकों की मूल पेंशन दिसंबर, 2015 की तुलना में 2.57 गुना बढ़ाई गई थी। रक्षा मंत्रालय ने बताया कि मुआवजा राशि बढ़ाए जाने का सर्कुलर कुछ दिनों जारी कर दिया गया था। मुआवजा राशि पांच श्रेणियों में बढ़ाई गई है। सरकार की ओर से कहा गया है कि बढ़ाई गई राशि सरकार के वेलफेयर फंड से दी जाएगी। यह बीमा और अन्‍य लाभों से इतर है।रक्षा मंत्री ने मुआवजे की सीमा में नौसेना को भी शामिल किया है। नौसेना हाल के दिनों में अदन की खाड़ी और सोमालिया के तट के करीब समुद्री डाकुओं के खिलाफ ऑपरेशन में शामिल रही है। हालांकि यह अच्‍छी बात है कि इन ऑपरेशन में अभी तक नेवी को किसी तरह की जनहानि नहीं हुुई है।

नए नियम विदेशों में राहत एवं बचाव कार्य में शामिल रहने वाले वायुसेना और नौसेना के जवानों पर भी लागू होंगे। इन ऑपरेशनॉन के दौरान किसी जवान की मौत पर उसके परिवार को नये नियमों के अनुसार मुआवजा दिया जाएगा। गौरतलब है कि मोदी सरकार के बनने के बाद एयरफोर्स और नेवी ने सूडान और यमन से भारतीयों को निकालने का ऑपरेशन किया था।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME