समय से पहले निपटा ले बैंक का काम, हड़ताल पर जा रहे है 10 लाख बैंक कर्मचारी

sbi
sbi
Advertisement

नई दिल्ली। बड़ी खबर बैंको को लेकर आ रही है। जानकारी के अनुसार सरकारी और निजी क्षेत्र के बैंकों 10 लाख से ज्यादा कर्मचारी 30 मई से 48 घंटों की हड़ताल पर जा रहे है। इस बारे में जानकारी ऑल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) की ओर से दी गई है। बता दे कि यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू) की ओर से प्रस्तावित यह हड़ताल 30 मई को सुबह छह बजे से शुरू होगी और एक जून को सुबह छह बजे जारी रहेंगी।

ये भी पढे़ं:-   पीएम मोदी ने किया देश के पहले 14 लेन एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन, जानिए क्या हैं इस एक्सप्रेस-वे की खासियत

प्राप्त सूचना के अनुसार बैंककर्मी वेतन संशोधन जल्द करने की मांग कर रहे हैं। उनका वेतन संशोधन एक नवंबर, 2017 को ही किया जाना था लेकिन अभी तक नही हो सका है। इसे लेकर एआईबीईए के महासचिव सीएच वेकंटचलम ने कहा कि हड़ताल का नोटिस बैंक प्रबंधन की प्रतिनिधि संस्था, इंडियन बैंक एसोसिएशन (आईबीए) और मुख्य श्रम आयुक्त (केंद्रीय), नई दिल्ली को दे दिया गया है। बता दे कि यूएफबीयू और आईबीए के बीच वेतन संशोधन को लेकर मुंबई में 5 मई को हुई बैठक असफल रही थी।

ये भी पढे़ं:-   यहां आप 10 रूपये देकर बना सकते है गर्लफ्रेंड , और अपने खालीपन को कर सकते है दूर

वेतन बिल पर 2 फीसदी की वृद्धि की पेशकशः- वेंकटचलम ने कहा कि आईबीए ने 31 मार्च, 2017 को बैंकों के कुल वेतन बिल पर 2 फीसदी की वृद्धि की पेशकश की थी, जबकि पिछले 10वें उभयपक्षीय मजदूरी निपटारे में, जो एक नवंबर, 2012 से प्रभावी था, आईबीए कुल वेतन बिल में 15 फीसदी की वृद्धि करने पर सहमत हुआ था।

Advertisement

उन्होने बताया कि यूनियनों ने आईबीए के प्रस्ताव को खारिज कर दिया। सरकार ने आईबीए से एक नवंबर, 2017 से पहले वेतन संशोधन समझौते को पूरा करने के लिए कहा था, लेकिन इसमें देरी बरती जा रही है। बताते चले कि यूबीएफयू बैंकिंग क्षेत्र की 9 यूनियनों की एक नेतृत्वकारी संस्था है, जो बैंककर्मियों और अधिकारियों का प्रतिनिधित्व करती है।

ये भी पढे़ं:-   पीएम मोदी ने किया ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन, इसपर सफर करने पर मिलेंगा लंदन जैसा मजा
Advertisement