28 जून, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

दलित के शरीर से बदबू आने से डाक्टर ने इलाज से किया मना, कर्मियों ने निकाला बाहर !

22_08_2016-21san4-0-c-1.5

भागलपुर,22 अगस्त। जवाहरलाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय अस्पताल के इनडोर मेडिसीन विभाग में भर्ती 60 वर्षीय निर्मल पासवान को डॉक्टरों ने मरने के लिए छोड़ दिया।निर्मल पासवान कहलगांव प्रखंड के हरचनपुर का निवासी है। कहलगांव अस्पताल से उसे जेएलएनएमसीएच रेफर किया गया है। निर्मल पासवान के शरीर से बदबू आने के कारण उसका ईलाज डाक्टर नहीं कर रहे है।

जानकारी के अनुसार बताया जा रहा है कि हाल ही में ही निर्मल पासवान के पेट का ऑपरेशन हुआ था। उसके पेट में पट्टी बंधी हुई है। जिससे खून और मवाद निकल रहा है। हाइड्रोसिल में भी जख्म है। वह चल-फिर भी नहीं सकता। बिस्तर पर ही पेशाब आदि करता है। दोनों पैर और जांघ में सूजन, बुखार और दर्द की शिकायत पर उसे भर्ती किया गया था। पहले उसे विभाग में अन्य मरीजों के साथ रखा गया था। अब उसे बाहर बरामदे में रख दिया गया है। उसके शरीर की सफाई के लिए अस्पताल का कोई भी कर्मचारी तैयार नहीं हैं। उसके शरीर से निकलते दुर्गध से बरामदा में कोई आना नहीं चाहता। निर्मल पासवान की आवाज भी अब धीमी हो गई है। उसने कहा कि अब डाॅक्टर भी मुझे नहीं आते देखने। साथ ही निर्मल पासवान का कहना है कि सिर में दर्द रहता है और कमजोरी भी आ गया है।

इसी अस्पताल में उसके एक पड़ोसी का भी ईलाज चल रहा है। उसी के पड़ोसी शीला राय ने बताया कि वह निर्मल को जानती है। शीला उसके रिश्तेदारों को मोबाइल से निर्मल के बारे में जानकारी भी दी। उसके रिश्तेदार एक बार आए भी थे। उसके दोनों पैर में सूजन होने और जख्म में कीड़े पड़ जाने से उसकी स्थिति धीरे-धीरे गंभीर होती जा रही है। बावजूद इसके न तो उसकी ड्रेसिंग हो रही है और न ही शरीर की सफाई। यही नहीं शरीर से बदबू आने के कारण कर्मियों ने उसे बेड से उतारकर विभाग के बरामदे पर लाकर छोड़ दिया है। परिजन के साथ छोड़ देने से आहत निर्मल सिर्फ इतना कह पा रहा है कि ऐ बाबू हमरा घर पहुंचाए द।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

ये भी पढे़ं:-   खुशखबरी... बिहार के इस जिले में खुलेगा होमियोपैथी रिसर्च सेंटर !

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME