05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

हुई महंगी बहुत शराब’बंदी’ में…अब ‘ब्लैक डॉग’ पीने वाले अब ‘डीएसपी ब्लैक’ पीते हैं !

darbhanga-wine-860x557

दरभंगा, 18 अक्टूबर। यूं तो पूरे बिहार में शराबबंदी सख्ती से लागू है लेकिन शराबबंदी का सख्त कानून लागू हो जाने के बाद भी शराब की खपत जोर-शोर से चल रही है। आए दिन अवैध शराब की खेप बरामद होने की खबरें आती रहती है। शराब के इस अवैध धंधे में जबर्दस्त मुनाफा के लालच में कई लोग तस्करी कर रहे हैं। नेपाल, यूपी, झारखंड और पश्चिम बंगाल के रास्ते से अवैध शराब की खेप लाई जा रही है। बॉटलों की जगह अब फ्रूटी जूस के डब्बे साइज में शराब छुपाकर लाया जा रहा है। शराब के शौकीनों को कीमत की परवाह नहीं, बस किसी तरह से शराब मिल जाए। यही वजह है कि मुंह मांगी कीमतों पर शराब को छुपाकर बेचा जा रहा है। जब हमारी टीम ने पड़ताल की तो हमें चौंकाने वाली जानकारी मिली। हालांकि इसको लेकर कोई भी मुंह खोलने तक को तैयार नहीं लेकिन लोगों की जुबानी जानकारी मिल रही है कि 100 रुपये की कीमत वाली शराब को 400 रुपये तक में शराब के तस्कर बेच रहे हैं। आम तौर पर ब्लैक डॉग जैसी मशहूर शराब की ब्रांड 1500 के आसपास मिल जाया करती थी लेकिन शराब बंदी के बाद तो डीएसपी ब्लैक जैसी शराब जो कि करीब 350 की कीमत की है उसको ही 1500 में बेच रहे हैं शराब के तस्कर।

यही वजह है कि बिहार में पूर्ण शराब बंदी लागू होने के बाद भी लोग शराब पीना नही छोड़ रहे है। चाहे वो चोरी छिपे ही कयो न हो लेकिन शराब पी रहे हैं, और पकड़े भी जा रहे हैं। ताजा मामला दरभंगा के सिंहवाड़ा भड़वारा में सामने आया है। गुप्त सूचना के आधार पर वहा उत्पाद विभाग की टीम पहुची और छापेमारी कर होटलो में शराब पीते दस लोगों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार लोगों के पास से शराब की बोतलें भी बरामद की गयी है। हालांकि होटल मालिक मौके से फरार हो गया। शराब पी रहे और गिरफ्तार शराबियों को बाद में ब्रेथ एनेलाइजर मशीन से जांच की गयी। जिसमें शराब पीने की पुष्टि भी हो गयी है, फिलहाल अब सभी को जेल भेजने की तैयारी चल रही है। मामले की पुष्टि करते हुए उत्पाद अधीक्षक दीनबंधू ने बताया कि गुप्त सूचना के आधार उन्होने यह छापेमारी की जिसमें इन शराबियों को शराब पीते गिरफ्तार किया गया।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME