मुजफ्फपुर शेल्टर मामले में डॉ रंजीत कुमार का सीएम नीतीश कुमार पर बड़ा हमला

dr. ranjit kumar
dr. ranjit kumar
Advertisement

बिहार स्वराज अभियान के संयोजक डॉ रंजीत कुमार ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा हमला बोला है। मुजफ्फरपुर स्थित शेल्टर होम पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने बिहार पुलिस की जांच पर असंतोष जाहिर करते हुए इस केस से जुड़े सभी 17 मामलों को सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया। इस मामले में सरकार की कार्यप्रणाली पर कोर्ट ने बिहार सरकार को जवाब दाखिल करने के लिए समय की मांग को भी ठुकरा दिया। डॉ रंजीत कुमार ने कहा कि अब ये साफ हो चुका है कि बिहार सरकार इस मामले के दोषियों को बचाने का भरसक प्रयास कर रही थी। सर्वोच्च न्यायालय के फटकार के बाद अगर नीतीश कुमार में जरा भी नैतिकता बची हुई है तो उनको अब तक इस्तीफा दे देना चाहिए। रंजीत कुमार ने बयान देते हुए कहा कि चूंकि बिहार पुलिस राज्य में गृह मंत्रालय के अंदर काम करती है और नीतीश कुमार मुख्यमंत्री के अलावा गृह मंत्रालय की बागडोर भी संभालते हैं तो इस मामले की पूरी जिम्मेदारी उनकी ही बनती है।

हम आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि सीबीआई बाकी मामलों की जांच के लिए तैयार है और शेल्टर होम के 17 मामलो की जांच सीबीआई ही करेगी। कोर्ट ने ये भी कहा कि इस मामले की जांच कर रहे सीबीआई अफसरों का ट्रांसफ़र नहीं होगा. सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को शेल्टर होम की जांच करने वाली सीबीआई टीम को तमाम सहायता मुहैया कराने का निर्देश दिया और कहा कि TISS की रिपोर्ट में उठाए गए सभी सवालों की जांच होनी चाहिए.

इससे पहले कोर्ट ने बिहार सरकार को फटकार लगाते हुए पूछा कि आप बताइए, क्या बाकी बचे शेल्टर होम के मामले को सीबीआई को ट्रांसफर किया जाए या नहीं ? सीबीआई के वकील ने कोर्ट को बताया कि हम अपने मन से किसी भी जांच को अपने हाथ में नहीं ले सकते।

डॉ रंजीत कुमार ने कहा है कि बिहार स्वराज अभियान पूरी तरह से इस मामले में पीड़ित लड़कियों के साथ है और हम आखिरी दम तक उनको इंसाफ दिलाने के लिए संघर्ष करते रहेंगे। बिहार सरकार अब पूरी तरह से एक्सपोज हो चुकी है।