10, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

सरकार का तुगलकी फरमान… फेसबुक, व्हाट्स एप्प पर किया शराब का समर्थन तो जाना होगा जेल !

post-3-phir-se-ek-baar-ho-n

पटना, 04 अक्टूबर : बिहार में 2 अक्टूबर से लागू हुए नए शराबबंदी कानून में शराबबंदी के विरोध अथवा शराब को लेकर विज्ञापन देने और उसे प्रकाशित करने पर भी कड़ी सजा का प्रावधान किया गया है। नए शराबबंदी के तहत बने कानून में सोशल मीडिया पर भी शराब का समर्थन करने वाले को जेल भेजने तक का प्रावधान किया गया है। किसी के फेसबुक अकाउंट या ट्वीटर पर यदि शराब का समर्थन करते या उसपर कोई समर्थन वाले आर्टिकल पाये जाते हैं तो उसपर तत्काल प्राथमिकी दर्ज करने की बात कही गयी है।

जिसके लिए विभिन्न जिलों के प्रशासन को मॉनेटरिंग की व्यवस्था के लिए आदेश भी जारी कर दिया गया है। शराबबंदी से जुड़े सभी मामलों की निगरानी के लिये जिलाधिकारी को जिम्मेदारी सौंपी गयी है। नए शराबबंदी कानून की धारा 40 के तहत किसी भी तरह से प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष किसी शराब अथवा मादक द्रव्य के प्रयोग की याचना करने वाला कोई विज्ञापन देता है तो वह कम से कम तीन से पांच वर्ष के कारावास और दस लाख रुपये के जुर्माने से दंडित किया जा सकता है। नए शराबबंदी कानून की धारा 44 के तहत अवैध शराब व्यापार में अवयस्क अथवा महिलाओं को नियोजित करने पर कम से कम दस वर्षों के कारावास जिसे बढाकर आजीवन कारावास किया जा सकता है तथा एक से दस लाख रुपये तक जुर्माना अथवा दोनों हो सकते है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

5 विचार साझा हुआ “सरकार का तुगलकी फरमान… फेसबुक, व्हाट्स एप्प पर किया शराब का समर्थन तो जाना होगा जेल !” पर

  1. A S RAHMANI October 4, 2016

    Sharab bandi ka sablog samarthan karai,nitish g samaj k liye accha karna chah rahe hai to kuch sharabi log unhai galat batate hai…bihar k janta Ko v samarthan karna chahiye sharab bandi k liye……
    Sharab kayi buarayiyo ka jar(root) hai…

  2. virat October 4, 2016

    सराब बंद होने से क ई घरो में शुख और शान्ति मिल रही है नितेश जी आपका शुझाओ ठीक है और इसी तरह एलन करते रहे ताकि आपका गाढ़ी सलामत रहे | मेय तो चाहता हु की हर शरहरो मे शराब बंद हो जाय ताकि लोग शराब के जगह पर दूध का प्रयोग कर अपना पूरी परिवार का पालन पोषण कर सकै और अपने बचौ को पूरी पढाई का धयान लगा ले|
    अतः नितीश जी से अनुरोध है की रोजगार देने की किर्पा करे ताकि नव्जोअन्न लोग गलत रास्ते पर ना चाले | हमारा बिचार दारु बंद

  3. vinod October 5, 2016

    meri umr 35 sal hai mai muskil se in 35 sal me bihar me 10 sal bitaya hoga vobhi piknik jash mera matry bhumi hai bihar le kin ham log mubai dehli panjab ????????? agar nahi jayenge to saiad bhukha hi marna parega kynki bihar me jis chij ki jarurat hai vo nahi hai faltu rajneeti hai kuchh aaisa kijiye jis se bihar ka nam upar ho miri prathna hai aap logo se hum sab kahenge ye hai hamara bihar

  4. Prakash October 5, 2016

    Gandhi has said that if he becomes one day dictactaor then he will completely ban the liquor seems that nitish Jee is making true that statement

  5. Kunwar prabhat October 7, 2016

    श्री नितीश कुमार जी, आपके शराबबन्दी पर तहे दिल से समर्थन है ।
    लेकिन ये बिहार है गलत तरीके से फसानेवालो की कमी नही है, और आप का ये हुक्म की परिवार के सारे सदस्य को जेल और 10 लाख तक का जुर्माना, या फिर वर्सो कैद होगा । ठीक है ऐसा भी करो लेकिन अरे मुर्ख पाखंडी, नीच कमीना ! जरा ये भी तो सोच ये जो आंगनवाड़ी में लूट खसोट हो रहा है मिडडे मिल का मजाक उर रहा है, सारे के सारे पोशाहार गटक लेता है, खिचड़ी 2, 4, बच्चे को खिलाकर घर भेज दिया जाता है, मनरेगा के नाम पर कितने वृक्ष लगे और उनमें कितने है, कहाँ गया वो पेड़ पौधे ?कहाँ अभी तक आंगनवाड़ी में सुधरे गरीब के बच्चे, उस टाइम पर तुम सोये थे या बेहोश थे ? तब कोई ठोस क़ानून क्यों नही निकाला हिजड़े ? 2000 हजार रुपया ब्लॉक़ के आला ऑफिसर लेकर सेविका को पोशाहार के सारे पैसे दे देता है । लेकुन वो करती क्या है । कौन ध्यान देगा इनके ऊपर ? उसके ऊपर भी कानून बनाओ वर्णा बन्द करो अपना बकवास ।
    ओर एक ही देश में अलग अलग कानून क्यों ? सुधरनेवाले खुद सुधर जाएंगे, पहले तुम अपने सरकारी नौकर को सुधारो । गाँव के चापाकल जो हजारो बन्द पड़े है उन्हें सही करवाओ, और चोरी या खराबी कैसे आया उन्हे 20 साल का सजा दो 50 लाख तक जुरमाना करो, तब समझेंगे मर्दानगी ।बड़ा चला प्रधानमंत्री बनने ।
    और हाँ एक बात और लालू को जानते होंगे तुम, लालू यादव ?
    बड़े ईमान है वो तो ? शायद इसलये तुम्हे मुख्यमंत्री बनाया ।

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME