06, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

सुसाइड प्वाइंट बनता जा रहा है गांधी सेतु…अब अगर पुल पर गाड़ी रोकी तो फिर खैर नहीं !

gandhi-setu-pul

newsofbihar.com डेस्क, 24 अक्टूबर। गांधी सेतु पुल को वर्ष 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश को समर्पित किया था। लेकिंन कुछ वर्षों तक यह पुल ठीक ठाक रहा मगर पुल की जर्जरता ने इसकी पहचान हमेशा जाम रहने वाले पुल के रूप में दे दी है। जाम से निजात पाने के लिए वैशाली और पटना जिला के प्रशासन लगातार बैठक करता आ रहा है, और भारी संख्या में पुलिस बल गांधी सेतु पर तैनात कर दिया गया है। सेतु पर जाम की परेशानी से दोनों जिला प्रशासन निजात के लिए जद्दोजहद कर रहा है। वहीं, एक और समस्या ने प्रशासन के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। दरअसल, गांधी सेतु पुल का पाया नंबर-18, पाया नंबर-38 और पाया नंबर-42 इन दिनों सुसाइड प्वाइंट का कारण बनता जा रहा है। पिछले कुछ माह के अंदर तकरीबन 50 की संख्या में लोगों ने आत्महत्या के लिए खास कर इन जगहों को चुना है, और पुल से नदी में छलांग लगा लिया। जिसमें से कई गंगा के गोद में समा गए तो कितनों को नदी में मछली मार रहे मछुआरों ने बचाया। गांधी सेतु के पाया नंबर-42 पे बढ़ते आत्महत्या की घटनाओं का देखते हुए वैशाली की डीएम रचना पाटिल ने एक नया आदेश जिला परिवहन विभाग और सम्बंधित थानों को दिया है। इस आदेश में साफ तौर पर यात्री वाहन को पुल पर रोके जाने और यात्रियों को उतारते हुए पकड़े जाने पर यात्री वाहन का परमिट रद्द करते हुए, कानूनी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। यह आदेश यात्री बस, ऑटो और वैसे सभी वाहनों पर लागू होगा जिनमें यात्री सफर करते हैं।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME