06, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

गरीबों के नाथ हैं बाबा गरीबनाथ…जानिए किस लिए कहा जाता है गरीबनाथ?

garibnath

संतोष तिवारी की खास रिपोर्ट।

मुजफ्फरपुर, 8 अगस्त। अखंड बिहार का दूसरा देवघर कहे जाने वाले मुजफ्फरपुर स्थित बाबा गरीबनाथ धाम वर्षों से श्रद्धालुओं के आस्था और श्रद्धा के केन्द्र रहे हैं, और मनोकामना लिंग के रूप में भक्तों के बीच ख्याति पाए बाबा की महिमा की प्रसिद्धि और श्रद्धालुओं की संख्या हर साल बढ़ती ही जा रही है।
सावन के महीने में विशेषकर सोमवार को सोनपुर के पहलेजा घाट से 70 किलोमीटर की दूरी तय कर कांवड़ियों का जत्था लाखों की संख्या में पवित्र गंगा जल से बाबा का जलाभिषेक करते हैं। मंदिर के मुख्य पुरोहित पंडित विनय पाठक के अनुसार हर वर्ष यहाँ के श्रद्धालुओं की संख्या मे पच्चीस से तीस हजार की वृद्धि हो रही है ।
देवघर के तर्ज़ पर बाबा गरीबनाथ धाम में भी डाक बम द्वारा गंगाजल लेकर महज 12 घंटे में बाबा का जलाभिषेक करने की परंपरा रही है।
आपको बता दें कि ऐतिहासिक तथा धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बाबा गरीबनाथ का इतिहास लगभग 300 वर्ष पुराना है, लेकिन मिले दस्तावेज के अनुसार 1812 ई. में इस स्थान पर छोटे मंदिर में बाबा की पूजा-अर्चना हो रही थी। मान्यता है कि सात पीपल का पेड़ यहां के घने जंगल में थे और पेड़ की कटाई के समय अचानक खून जैसे लाल पदार्थ निकलने और विशालकाय शिवलिंग के मिलने के बाद जमीन मालिक को रात में बाबा ने स्वप्न दिया, जिसके बाद विधिवत पूजा-अर्चना की जाने लगी।
श्रद्धालुओं के मान्यतानुसार, बेहद ही गरीब घर की बेटी के विवाह के लिए घर में कुछ भी नहीं था, लेकिन बाबा के दर्शन मात्र से ही सारे आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति अपने-आप हो गई, तब से से लोगों के बीच बाबा और उनका स्थल गरीबनाथ धाम के रूप में प्रख्यात हो गया।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME