06, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

हैं हेडमास्टर लेकिन इनकी सोच ‘डेड’ है ! विधवा के साथ जो इन्होंने किया उसे सुनकर आप भी यहीं कहेंगे…

auran

संतोष कुमार की रिपोर्ट

औरंगाबाद, 26 जुलाई। रसोइया के पद पर कार्यरत एक दलित महिला का अचानक विधवा हो जाना उस वक्त अभिशाप बन गया जब स्कूल के प्रधानाध्यापक ने विधवा के हाथ से बनी खाने बच्चों को खिलाने से इन्कार कर दिया। इसके बाद उस विधवा महिला को रसोइया पद से ही हटा दिया।
घटना रफीगंज थाना के बटुरा स्थित मिडिल स्कुल की है। यह मामला भी अन्य मामलों की तरह दब जाता या फिर दबा दिया जाता यदि महिला ने डीएम के पास गुहार नहीं लगाई होती। डीएम ने मामले को गंभीरता से लिया और खुद इसकी जांच करने बटुरा पहुंचे। यहां उन्होंने रसोइया, आरोपी हेडमास्टर, स्कूल के छात्रों और ग्रामीणों से अलग अलग बात की और मामले की तह तक जाने के बाद आरोप को सही पाया। तत्काल प्रभाव से डीएम ने हेडमास्टर को निलंबित कर दिया। साथ ही उस पर विभागीय कार्रवाई की अनुशंसा कर दी है। जबकि हटाये गये रसोइया उर्मिला कुंवर को फिर से स्कूल में बहाल कर दिया है। इतना ही नहीं समाज में एक स्वस्थ संदेश भेजने की नियत से उन्होंने उस महिला के हाथ से बने भोजन को स्कूली बच्चों के साथ जमीन पर बैठकर भर पेट खाया भी।
इस मामले में डीएम ने कहा कि जिले में ऐसे जितने भी मामले हैं, सभी मामले को गंभीर रूप से लिया जाएगा। उन सबो की फिर से जांच की जायेगी और किसी गलत वजह से किसी भी रसोइये को हटाया गया होगा तो उस पर आवश्यक कारवाई भी की जायेगी।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME