07, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

छात्रों की संख्या लाखों में और शिक्षकों की संख्या उस अनुपात में नगण्य, कैसे पढेंगे छात्र?

school

demo

मो. हसनैन की रिपोर्ट

शिवहर, 26 नवंबर: कोई भी समाज तभी विकास करेगा जब वहां की शिक्षा व्यवस्था अच्छी होगी। शिक्षा को अगर विकास की पहली सीढ़ी मान लें तो कोई अतिशयोक्ति नही होगी। विगत बर्षो मे राज्य सरकार शिक्षा में सुधर का दम सरकार भरती रही है और इसके साक्ष्य भी प्रस्तुत भी कियें गये किन्तु जिला शिवहर इस बदलाव अछूता है। यहां छात्र और शिक्षक का अनुपात वर्तमान शिक्षा व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह लगाता है। मतलब सरकारी मानक के अनुसार 35 छात्र पर एक शिक्षक नियुक्त करने का प्रावधान हैं। लेकिन इस नियम का शिवहर में पालन नही हो रहा है। इस बात का खुलासा तब हुआ जब नगर पंचायत वार्ड नम्बर -14 निवासी मुकुन्द प्रकाश मिश्र ने सूचना के अधिकार के तहत जिले के कुल छात्र तथा शिक्षक की सूची मांगी। इस सूची के अनुसार प्राथमिक (1-5) तथा मध्य(6-8) विधालय मे छात्र की संख्या 114740़43137=157877 तथा शिक्षक की संख्या 2051 है। अर्थात 76 छात्र पर करीब 1 शिक्षक नियुक्त हैं।
वहीं माध्यमिक विधालय मे (9-10) मे छात्र की संख्या 16182 तथा शिक्षक की संख्या 109है। करीब 148 छात्र पर 1 शिक्षक नियुक्त है। उच्चतर माध्यमिक विधालय मे (11-12) मे छात्र की संख्या 5515 तथा शिक्षक की संख्या 45 हैं। अर्थात 122 छात्र पर 1 शिक्षक नियुक्त हैं। अगर हम बात करें छात्र की संख्या का तो प्राथमिक विधालय (1-5) मे संख्या 114740, मध्य विधालय(6-8) मे 43137 माध्यमिक विधालय(9-10) में 16182 तथा उच्चतर माध्यमिक विधालय(11-12) मे 5515 छात्र हैं। इस पर विचार करने का जरूरत है आखिर बच्चों को पढ़ाई बीच मे क्यो छोड़ना पड़ रहा है। प्राप्त सूचना को गौर से देखने पर यही कहा जा सकता है कि जिले मे शिक्षा के नाम पर महज खानापूर्ति हो रही हैं। और सरकार का छात्रो के भविष्य या पढ़ाई से कोई मतलब नही हैं। आखिर जिम्मेदार कौन है अगर विधालय में शिक्षक की कमी है तो इसके लिए जबाबदेह आखिर कौन हैं, इस पर कभी किसी ने विचार नही किया? इसके लिए जिला प्रशासन खासकर शिक्षा विभाग को संवेदनशील होना होगा।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME