27 अप्रैल, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

गैस कनेक्शन पर उठाए दस लाख का बीमा लाभ!

Gas-Conection

logo photo

जहानाबाद, 11 अगस्त। एलपीजी कनेक्शन के साथ उपभोक्ताओं को मुफ्त में हादसा बीमा देने का प्रावधान है। बीमे की देय राशि दस लाख रुपये तक होता है। जानकारी के अभाव में दुर्घटना के बाद भी लोग इसका लाभ लेने से वंचित रह जाते हैं। गैस एजेंसियों द्वारा भी इसकी जानकारी उपभोक्ताओं को नहीं दी जाती है। ऐसी परिस्थिति में दुर्घटना के शिकार उपभोक्ता क्लेम करने से वंचित रह जाते हैं।

पदाधिकारियों का कहना है कि, कंपनियों की यह जिम्मेदारी रहती है कि लोगों को बीमा की जानकारी दी जाए एवं उपभोक्ताओं को जागरुक किया जाए लेकिन ऐसा शायद ही होता है। कनेक्शन से संबंधित उपभोक्ता कार्ड पर बीमा की जानकारी अंकित रहता है फिर भी, 98 फीसदी उपभोक्ता इससे अंजान रहते हैं।

विभागीय सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कंपनी का बीमा दो तरह का होता है। एक कंपनी के तरफ से दुसरी उपभोक्ता की ओर से थर्ड पार्टी इंश्योरेंस का प्रावधान है। एजेंसी को भी प्रत्येक उपभोक्ता को थर्ड पार्टी इंश्योरेंस कराना होता है। हादसे में होने वाले नुकसान के आधार पर बीमे की राशि का भुगतान करने का प्रावधान है। इंश्योरेंस कंपनी सर्वे कराने के बाद क्लेम की राशि सुनिश्चित करती है। क्लेम 25 हजार से दस लाख रुपये तक हो सकता है। 25 हजार का क्लेम नो फाल्ट लायबिलिटी में आता है, जिसमें हादसे में उपभोक्ता की गलती न हो। हादसा के तीन दिनों के भीतर संबंधित थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने का प्रावधान है।

क्लेम का यह है प्रावधान:
बीमा के लाभ के लिए ओएनजीसी द्वारा कुछ शर्तो को लागू किया गया है। प्रमुख शर्तो में हादसे के बाद गैस कनेक्शन से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बातों पर ध्यान दिया जाता है। गैस कनेक्शन में इस्तेमाल किये जाने वाला पाइप, रेग्युलेटर समेत सभी उपकरण भारतीय मानक ब्यूरो से मान्य होनी चाहिए। बीसीआई का निशान उसपर मौजूद होनी चाहिए, तभी उपभोक्ता बीमा के लिए क्लेम कर सकता है। गैस एजेंसी बीमा कराते हैं लेकिन, उसमें गैस, सिलिंडर, गोदाम में गैस से होने वाले हादसे और कर्मचारियों का बीमा शामिल होता है। इंश्योंरेंस पचास लाख रुपये तक का होता है लेकिन, इसमें उपभोक्ताओं का जिक्र एजेंसी द्वारा नहीं किया जाता है।

ये भी पढे़ं:-   'गोली मार देंगे कपार में' डायलॉग बोलने वालों को नीतीश ने कुछ इस तरह से हड़काया....

पदाधिकारी क्या कहते हैं:
डा. नवलकिशोर चौधरी, एसडीओ कहते हैं कि पब्लिक लायबिलिटी के तहत उपभोक्ताओं को एलपीजी कनेक्शन पर मुफ्त बीमा का लाभ दिया जाता है। गैस कनेक्शन बुकलेट में भी इसकी जानकारी दर्ज होती है। एजेंसी के संचालकों को भी इसकी जानकारी उपभोक्ताओं को देनी चाहिए। उपभोक्ता को भी क्षतिपूर्ति क्लेम के लिए तत्पर रहने की आवश्यकता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME