05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

इस बार करवाचौथ के व्रत से मिलेगा 100 व्रतों का वरदान, जानिए इस बार क्या है खास !

69

पटना, 19 अक्टूबर : हिंदू परंपरा के अंतर्गत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को करवाचौथ का पर्व मनाया जाता है। इस बार यह पर्व 19 अक्टूबर, बुधवार यानी आज है। 100 साल बाद आया करवाचौथ का ऐसा महासंयोग, जो इसे दिव्य और चमत्कारी बना रहे हैं इस साल करवाचौथ पर 100 साल बाद दुर्लभ संयोग बन रहा है। ज्योतिष की मानें तो इस बार करवाचौथ का एक व्रत से 100 व्रतों का वरदान मिलेगा। बुधवार 19 अक्टूबर को चन्द्रमा वृषभ राशि में और रोहिणी नक्षत्र एक साथ रहेगा। इससे पहले इस तरह का संयोग करवाचौथ के दिन 1916 में बना था। तब करवा कर चार महासंयोग एक साथ बने थे। ये अद्‌भुत संयोग करवाचैथ के व्रत को शुभ फलदायी बना रहा है। करवाचौथ केवल सुहागिनें या जिनका रिश्ता तय हो गया हो वही स्त्रियां ये व्रत रख सकती हैं। व्रत रखने वाली स्त्री को काले और सफेद कपड़े कतई नहीं पहनने चाहिए। करवाचौथ के दिन लाल और पीले कपड़े पहनना विशेष फलदायी होता है। करवाचौथ का व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक रखा जाता है। ये व्रत निर्जल या केवल जल ग्रहण करके ही रखना चाहिए। इस दिन पूर्ण श्रृंगार और अच्छा भोजन करना चाहिए। पत्नी के अस्वस्थ होने की स्थिति में पति भी ये व्रत रख सकते हैं।

करवाचौथ क्यों है इतना खास
कहते हैं जब पांडव वन-वन भटक रहे थे तो भगवान श्री कृष्ण ने द्रौपदी को इस दिव्य व्रत के बारे बताया था। इसी व्रत के प्रताप से द्रौपदी ने अपने सुहाग की लंबी उम्र का वरदान पाया था।

करवाचौथ में पूजा चंद्र उदय का मुहूर्त
करवाचैथ पूजा के लिए पूरी अवधि एक घंटे और 13 मिनट है। करवाचैथ पूजा का समय शाम 6 बजे शुरू होगा। शाम 7 बजकर 14 मिनट पर करवाचौथ पूजा करने का समय खत्म होगा। चंद्र उदय का मुहूर्त रात 8 बज कर 29 मिनट है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME