10, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

बिहार के किसानों के लिए वरदान साबित हो रहा है खस की खेती

lemon-grass

पटना, 19 नवंबर: बिहार में साल के करीब छह महीने बाढ़ की विभीषिका झेलने वाले क्षेत्रों में अपनी आजीविका एवं परिवार के भ्रण-पोषण के लिए आर्थिक तंगी से जूझते किसानों के लिए खस की खेती वरदान साबित हो रही है।
खस के 10 से 15 दिन तक पानी में रहने के बाद भी नहीं गलना और पानी कम होने पर पुन रूप से उठ खड़ा होने जैसे गुण की बदौलत यह बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के किसानों के लिए संजीवन की तरह हो सकता है। इसकी खेती को लेकर बिहार के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के किसान भी रूचि दिखाने में लगे है। खस की एक खासियत यह भी है कि इसे अन्य फसलों के साथ भी लगाया जा सकता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

ऐक विचार साझा हुआ “बिहार के किसानों के लिए वरदान साबित हो रहा है खस की खेती” पर

  1. Amit Kumar November 19, 2016

    Kaise Kare khas ki kheti.

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME