28 जून, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

लालू यादव का एक तीर और तीन शिकार, विरोधी-समर्थक चारो खाने चित !

nitish-kumar-laloo-yadav01

पटना, 20 सितम्बर। गिनती में भले दो और दो का जोड़ चार होते हैं लेकिन राजनीति में ‘दो और दो का जोड़ पांच’ हो जाता है। शायद इसी बात का लाभ आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव भी उठा रहे हैं। बताया जा रहा है कि महागठबंधन में चल रहे महाभारत को कम करने के लिए लालू यादव ने एक तीर से तीन शिकार कर विरोधियों के साथ-साथ सर्मथकों को भी चारो खाने चित कर दिया है।

बताते चले कि लालू प्रसाद ने प्रधानमंत्री पद के लिए सीएम नीतीश कुमार को पहली पसंद बताकर तीन-तीन शिकार कर डाला है। जहां जेडीयू को एक ओर सुकून, कांग्रेस को करारा जवाब और राजद के बड़बोले नेताओं को संयम का सबक मिला है। वहीं शहाबुद्दीन के पैंतरे से महागठबंधन में उठा सियासी तूफान अब लालू के बयान के बाद काफी हद तक सुस्त पड़ गया है।

सूबे में शराबबंदी के बहाने नीतीश सरकार पर गरज-बरस रहे नेताओं की आवाज भी थम गई है। इन बड़ ़बोले नेताओं को संकेत मिल गया कि लालू की सोच महागठबंधन से अलग नहीं है। यह सरकार सिर्फ जेडीयू की नहीं है, बल्कि राजद की भी है और सरकार की मजबूती सबकी जिम्मेदारी है। प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर नीतीश का नाम लेकर लालू ने अपने नेताओं को यह भी समझाने की कोशिश की है कि सरकार के शीर्ष साझेदारों में कोई गलतफहमी नहीं है। लालू के बयान से सबसे ज्यादा सुकून जदयू के वैसे नेताओं को मिला है, जो नीतीश के समर्थन में सरकार के प्रति राजद के समर्पण पर खुलकर संदेह जताते थे। उन्हें लगता था कि राजद के वरिष्ठ नेता रघुवंश प्रसाद सिंह जो भी बोलते हैं, उसमें लालू की सहमति होती है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

ये भी पढे़ं:-   नोटबंदी के खिलाफ नीतीश के बदले सुर, कहा भाजपा के खिलाफ अग्रेसिव रहना है!

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME