23 अगस्त, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

जन आंदोलन से नहीं भागे नीतीश कुमार तो धक्का धुक्की पटका पटकी करके भगाएंगे- लालू

12 अगस्त पटना Newsofbihar.com डेस्क :

राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव अभी पटना में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित किया । प्रेस कांफ्रेंस में नीतीश कुमार और भाजपा पर जमकर निशाना साधा।
लालू ने बड़ा हमला करते हुए इससे पहले कहा कि जदयू को भाजपा का टीम बी कहा जाना चाहिए। अल्पसंख्यक होने के कारण अलीअनवर पर कार्रवाई की गई है। नीतीश कुमार भाजपा के समक्ष सरेंडर कर चुके हैं।
लालू बोले कि नीतीश चंद दिनों के मेहमान हैं। जन आंदोलन से नहीं मानेंगे तो धक्का धुक्की पटका पटकी करके भगाएंगे। यह लड़ाई 27 की रैली से ख़त्म नहीं होगी। बिहार को आरएसएस से मुक्त कराकर दम लेंगे।

लालू यादव की पीसी की मुख्य बातें

नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने यह नारा दिया था कि भ्रष्टासचार भारत छोड़ो। आतंकवाद भारत छोड़ों। लेकिन उनके संरक्षण में जो बिहार में सरकार बनी है। उसमें सुशील मोदी को फिर से वित्तं विभाग दिया गया है। 2005 से भी वे सरकार में रहे यही विभाग रखे हुए हैं।
लोग कहते हैं कि चारा घोटाला बहुत बड़ा घोटाला है। लेकिन भागलपुर में जो सृजन घोटाला हुआ है, वह घोटाला 1000 करोड़ तक पहुंच गया है। 16 सालों से नीतीश कुमार बिहार की जनता की गाढ़ी कमाई को लूटने का काम कर रहे हैं।

नीतीश कुमार ने अपने चहेते अफसरों की एसआइटी की टीम बनाकर भेजा। उन्हों ने तुरंत प्रेस-कांफ्रेस कर बता दिया कि ये बड़ा घोटाला है। इसकी राशि बढ़ेगी। लेकिन छोटे-छोटे गरई मछली को पकड़ा जा रहा है। बड़ी मछली रोहू जो सुशील मोदी और नीतीश कुमार हैं, वो कब पकड़े जायेंगे। सीबीआई जांच होनी चाहिए। इसके बाद ही सारा मामला साफ होगा।

ये भी पढे़ं:-   पेट्रोल कांड: विधायक जी चिरनिंद्रा से जागे, परिजनों से मिलने कबिलपुर पहुंचे...कहा

ये सारी जिम्मेजदारी वित्त विभाग की है। तुरंत सुशील मोदी को बर्खास्तु करना चाहिए। ट्रेजरी से पैसा निकाल कर कौन ले गया। एनजीओ से सुशील मोदी का जो रिश्ताा है, वह साफ पता चल रहा है। लालू यादव ने एक फोटो दिखाते हुए कहा कि सृजन की संस्था‍पक मनोरमा देवी को नीतीश कुमार पुरस्कृेत कर रहे हैं। इसमें सुशील मोदी और गिरिराज सिंह, और कई पुलिस अफसर भी हैं।

सुशील मोदी को तत्काफल मंत्रिमंडल से बर्खास्तद कर के हाथ में हथकड़ी लगाकर जेल भेजना चाहिए। इसने हजारों-हजार करोड़ रूपया का घपला किया है। लालू ने कई सारे फोटो को दिखाते हुए कहा कि शहनजवाज हुसैन मनोरमा देवी को प्रणाम कर रहा है। मनोज तिवारी के साथ भी मनोरमा देवी का फोटो है।

अगर सरकारी खजाने से इतनी राशि निकाली जा रही है तो वित्तम विभाग जो कि अधिकांश समय सुशील मोदी के जिम्मे थी, वो क्या कर रहे थे। पैसे गिन रहे थे। सारे मामलों की जांच होनी चाहिए।

2013 में रिजर्व बैंक में इसकी जांच के लिए सरकार को लिखा था, उस जांच रिपोर्ट का क्या हुआ। तो उस समय इसके उपर कार्रवाई क्योंं नहीं हो सकी। अखबार में खबर छपने के बाद जांच कमेटी बनायी गई थी। सीएम और डिप्टीं सीएम को बताना चाहिए कि आखिर वे क्या कर रहे थे।

क्या यह इत्तेटफाक है कि 2005 से ही इस घोटाले की शुरूआत हुई है और उसी वर्ष नीतीश कुमार की सरकार बनी थी।

2005-06 से इस खेल की शुरूआत हो चुकी थी। सरकारी पैसों को एनजीओं के खाते में रखा गया था। उस समय सुशील मोदी क्याे कर रहे थ

ये भी पढे़ं:-   जानिए दुर्गा सप्तशती के कौन से अध्याय का पाठ करने से आपकी मनोकामना पूर्ण होगी...प्रत्येक अध्याय का अलग-अलग महत्व !

यह भी बात सामने आ रही है कि भाजपा नेता मनोज तिवारी का मनोरमा देवी के बेटे के साथ कई तस्वीीर है। सृजन का पैसा रियल इस्टे ट में इनवेस्ट हुआ है। मनोज तिवारी भी रियल इस्टेट से जुड़े हुए हैं। ऐसे में इस मामले की सही से जांच होनी चाहिए। इस घोटाले में कई बार ऐसा भी हुआ कि इतने बड़े घोटाले को करने में महिलायें सक्षम नहीं थी। इसमें बड़े लोगों का हाथ है।

इससे पहले उन्होंने मंगल पांडे के आवास पर चार डॉक्टरों की तैनाती पर सवाल उठाया था। पूछा कि पांडेय बताएं उन्हें क्या बीमारी है। डॉक्टर मुझे देखने आते थे तो बीजेपी सवाल उठाती थी। अब सीएम नीतीश अपने मंत्री मंगल पांडेय का इस्तीफ़ा लें।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME