03, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

लालू यादव और नीतीश कुमार में दरार, बिहार में कभी भी हो सकता है महागठबंधन का द इंड !

lalu-nitish

पटना, 9 सितम्बर। क्या सच में आरजेडी नेता लालू प्रसाद यादव से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नाराज हो गए हैं। क्या सच में महागठबंधन में दराड़ आ गया है। सुनने में अजब लगे लेकिन सच है। सूत्रों के अनुसार सीएम नीतीश कुमार इनदिनों आरजेडी के कुछ नेताओं के कार्यशैली से परेशान हैं। यहीं कारण है कि वह अलग होने पर विचार कर रहे हैं। एक न्यूज पोर्टल केे अनुसार अगर ऐसा ही चलता रहा तो सीएम नीतीश महागठबंधन को टा टा बाय बाय कर सकते हैं। संभव है कि इसके बाद बिहार में बिजेपी जेडीयू की सरकार हो।

क्या है नीतीश-लालू में विवाद का कारण
आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव के कारण सीएम नीतीश कुमार को कई मामलों में अपने निर्णय बदलने पड़े हैं। शराबबंदी कानून में जहां उन्होंने ताड़ी को प्रतिबंध किया था वहीं लालू के कहने पर नए कानून मेें इसे प्रतिबंध नहीं किया गया है। इतना ही नहीं आरजेडी के कई वरिष्ठ नेता लगातार सार्वजनिक मंचो से नीतीश का अपमान कर रहे है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

5 विचार साझा हुआ “लालू यादव और नीतीश कुमार में दरार, बिहार में कभी भी हो सकता है महागठबंधन का द इंड !” पर

  1. vinodssmg September 9, 2016

    yeto honahi tha in bhairopiyo par kabhi bharosa na kare

  2. आचार्य सुधीर झा September 9, 2016

    यह तो होना है है अवसरवादिता और सत्ता प्राप्त करने का महागठबंधन है बिहार के विकास से कोई लेना देना नहीं है आर जे डी अपना आधार बनाना है नितीश को अपना बचाना है बेचारी कांग्रेस पीछे पीछे लगी हुयी है

  3. Nraj September 9, 2016

    woh din bihar ke liye shubhdin hogan.

  4. Birendra Prasad Sinha September 9, 2016

    लेकिन यह लॉजिकल एन्ड नहीं है। यह एन्ड तब होगा जब राजद का राजनितिक वजूद खत्म हो जाय आ बिहार का यह दुर्भाग्य है कि अबतक एक सज़ायाफ्ता सरकार चला रहा था अब दूसरा भी आने ही वाला है। लालू की पोलिटिकल केमिस्ट्री बिहार के सामाजिक संतुलन को मटियामेट कर देगी, उसके बाद अगर राजद खत्म भी हो जाता है तब भी बिहार को भारी कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी। राजद का नेतृत्व शहाबुद्दीन के हाथों में देने का एलान लालू ने ऐसे ही नहीं किया है। लेकिन सवाल है कि इन दोनों यानि लालू-शहाबुद्दीन की राजनीति के सामाजिक पक्ष को सुप्रीम कोर्ट कबतक नज़र अंदाज़ करेगा ?

  5. shambhu paswan September 12, 2016

    बीजेपी से मिलकर सरकार बहुत रहेगा
    ,
    जो पहले होने से
    अब ही क्यो नही ।

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME