25 अप्रैल, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

आज है बिहार के इस लीजैंड पोएट का बर्थडे…”बरसाती मेंढक से फूले, पीले-पीले गदराए, गाँव-गाँव से लाखों नेता खद्दरपोश निकल आए।”

ARSI-PRASAD-SINGH

आरसी प्रसाद सिंह (जन्म- 19 अगस्त, 1911 ई., बिहार; मृत्यु- 15 नवंबर, 1996) भारत के प्रसिद्ध कवि, कथाकार और एकांकीकार थे। छायावाद के तृतीय उत्थान के कवियों में महत्त्वपूर्ण स्थान रखने वाले और ‘साहित्य अकादमी पुरस्कार’ से सम्मानित आरसी प्रसाद सिंह को जीवन और यौवन का कवि कहा जाता है। बिहार के श्रेष्ठ कवियों में इन्हें गिना जाता है। आरसी प्रसाद सिंह हिन्दी और मैथिली भाषा के ऐसे प्रमुख हस्ताक्षर थे, जिनकी रचनाओं को पढ़ना हमेशा ही दिलचस्प रहा है। इस महाकवि ने हिन्दी साहित्य में बालकाव्य, कथाकाव्य, महाकाव्य, गीतकाव्य, रेडियो रूपक एवं कहानियों समेत कई रचनाएँ हिन्दी एवं मैथिली साहित्य को समर्पित की थीं। आरसी बाबू साहित्य से जुड़े रहने के अतिरिक्त राजनीतिक रूप से भी जागरूक एवं निर्भीक रहे। उन्होंने अपनी लेखनी से नेताओं पर कटाक्ष करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी।

जन्म तथा शिक्षा
आरसी प्रसाद सिंह का जन्म 19 अगस्त, 1911 को बिहार के समस्तीपुर ज़िला में रोसड़ा रेलवे स्टेशन से आठ किलोमीटर की दूरी पर स्थित बागमती नदी के किनारे एक गाँव ‘एरौत’ (पूर्व नाम ऐरावत) में हुआ था। यह गाँव महाकवि आरसी प्रसाद सिंह की जन्मभूमि और कर्मभूमि है, इसीलिए इस गाँव को आरसी नगर एरौत भी कहा जाता है। अपनी शिक्षा पूर्ण करने के बाद आरसी प्रसाद सिंह की साहित्य लेखन की ओर रुचि बढ़ी। उनकी साहित्यिक रुचि एवं लेखन शैली से प्रभावित होकर रामवृक्ष बेनीपुरी ने उन्हें “युवक” समाचार पत्र में अवसर प्रदान किया। बेनीपुरी जी उन दिनों ‘युवक’ के संपादक थे। ‘युवक’ में प्रकाशित रचनाओं में उन्होंने ऐसे क्रांतिकारी शब्दों का प्रयोग किया था कि तत्कालीन अंग्रेज़ हुकूमत ने उनके ख़िला़फ गिरफ्तारी का वारंट जारी कर दिया था।[1]

कृतियाँ
आरसी प्रसाद सिंह ने हिन्दी व मैथिली भाषा में अपनी कृतियाँ लिखी जो इस प्रकार है:-

ये भी पढे़ं:-   दरभंगा: प्रखंड उप-प्रमुख ने किया स्कूलों का औचक निरिक्षण, सभी जगह पाया ये हाल !

हिन्दी की प्रकाशित कृतियाँ

कविता
आजकल
कलापी
संचयिता
आरसी
जीवन और यौवन
नई दिशा
पांचजन्य
द्वंद समास
सोने का झरना
कथा माला
प्रबन्ध काव्य
नन्द दास
संजीवनी
आरण्यक
उदय
गीत
प्रेम गीत
कहानी
पंचपल्लव
खोटा सिक्का
कालरात्रि
एक प्याला चाय
आंधी के पत्ते
ठण्ढी छाया
बाल साहित्य
चंदामामा
चित्रों में लोरियाँ
ओनामासी
रामकथा
जादू का वंशी
काग़ज़ की नाव
बाल-गोपाल
हीरा-मोती
जगमग
क़लम और बंदूक
समीक्षा
कविवर सुमति : युग और साहित्य
मैथिली की प्रकाशित कृतियाँ

कविता
माटिक दीप
पूजाक फूल
मेघदूत
सूर्यमुखी (साहित्य अकादमी पुरस्कार)
अप्रकाशित कृतियाँ

कविता
कचनार
जल कल्लोल
वनमर्मर
मधुमल्लिका
आग और धुआँ
जय भारती
वलाका
संकलिता
अमावस्या
आवारा बादल
आकाश कुसुम
चतुरंग
जो धारा से उठे
महकती कल्पना मेरी
शिखर चेतना मेरी
प्रबंध काव्य
पूर्णोदय
असूर्यम्पश्या
सप्त पर्ण
कुंअर सिंह
गीत
नवगीतिका
निवेदिता
मंजुला
गान-मंजरी
गीतमालिका
दिलरूबा

नेताओं पर कटाक्ष
आरसी प्रसाद सिंह साहित्य से जुड़े रहने के अलावा राजनीतिक रूप से भी जागरूक एवं निर्भीक व्यक्ति थे। उन्होंने अपनी लेखनी से नेताओं पर कटाक्ष करने में कभी कोई कसर नहीं छोड़ी। नेताओं पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने लिखा है कि- “बरसाती मेंढक से फूले, पीले-पीले गदराए, गाँव-गाँव से लाखों नेता खद्दरपोश निकल आए।” पर्यावरण एवं हरियाली के प्रति सदा सजग रहने वाले महाकवि आरसी बाबू पेड़-पौधों की हो रही अवैध कटाई से मर्माहत होकर एक स्थाप पर लिखते हैं कि- “आज अरण्य स्वयं रूदन करता है और उसका रूदन कोई नहीं सुनता। अरण्य का रूदन कोई सुनता तो उस पर भला कुल्हाड़ी ही क्यों चलाता?” आरसी प्रसाद सिंह से जुड़े संस्मरण के बारे में पत्रकार संजीव कुमार सिंह कहते हैं कि- “1956 से 1958 के बीच उन्होंने आकाशवाणी लखनऊ एवं आकाशवाणी इलाहाबाद में हिन्दी कार्यक्रम अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएँ दीं। इस दौरान आकाशवाणी के एक अधिकारी उन पर हमेशा हावी रहते थे। एक दिन उन्होंने अमर चेतना का कलाकार, शिल्पी पराधीन होना नहीं चाहता, भुवन मोहिनी सृष्टि का विधाता कभी दीन होना नहीं चाहता, लिखकर अपना त्यागपत्र उसे सौंप दिया। आकाशवाणी की नौकरी छोड़ने के बाद उन्होंने अपना सारा जीवन साहित्य के नाम कर दिया और मरते दम तक वह काव्य साधना में लीन रहे।

ये भी पढे़ं:-   दरभंगा में शौच के लिए गयी युवती के साथ पडोसी ने किया दुष्कर्म का प्रयास

राजाश्रय ठुकराना
आरसी प्रसाद सिंह के बारे में ‘पद्मभूषण’ प्राप्त अमृतलाल नागर ने कहा था कि- “उन्हें जब कभी देख लेता हूँ, दिल खुश हो जाता है। आरसी में मुझे प्राचीन साहित्यिक निष्ठा के सहज दर्शन मिलते हैं।” अगर आरसी प्रसाद के व्यक्तित्व की बात की जाये तो उन्होंने कभी भी परवशता स्वीकार नहीं की। उम्र भर नियंत्रण के ख़िलाफ आक्रोश ज़ाहिर करते रहे। चालीस के दशक में जयपुर नरेश महाकवि आरसी को अपने यहाँ राजकवि के रूप में भी सम्मानित करना चाहते थे। इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु उन्होंने काफ़ी आग्रह, अनुनय-विनय किया, परंतु आरसी बाबू ने चारणवृत्ति तथा राजाश्रय को ठुकरा दिया। ऐसी थी महाकवि आरसी की शख़्सियत। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल, पाण्डेय बेचन शर्मा ‘उग्र’, राम कुमार वर्मा, डॉ. धीरेंद्र वर्मा, विष्णु प्रभाकर, शिव मंगल सिंह ‘सुमन’, बुद्धिनाथ मिश्र और अज्ञेय समेत कई रचनाकारों ने हिन्दी और मैथिली साहित्य के इस विभूति को सम्मान दिया।

साभार: भारत डिस्कवरी

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME