29 अप्रैल, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

ऐसा ससुर किसी को ना देना…बिन दुल्हन के दामाद जी की घर वापसी !

Mandap-01


अभिषेक कुमार झा की रिपोर्ट

मधुबनी , 11 अगस्त। आज तक तो यह सुना था कि लड़के वालों से लड़की वाले हमेशा झुक कर रहते हैं। हमेशा लड़की के पिता को ही कर्ज में डूबना पड़ता है। जब तक शादी नहीं हो जाती लड़की के पिता लड़के वालों की हर मांग एक गुलाम की तरह पूरा करते हैं। यहां तक कि शादी के बाद भी वो लड़के वालों की जी हजूरी ही करते रहते हैं। ताकि उनकी बेटी को किसी तरह की कोई तकलीफ ना हो, लेकिन यह कहानी कुछ ऐसी है कि आप इसपर यकीन नहीं कर पाएंगे।

इस कहानी में दुल्हन के पिता ने जयमाला के बाद सज-धज कर आए दूल्हे को अपनाने से इंकार कर दिया। सिर्फ इतना ही नहीं लड़की के पिता ने अचानक लड़के के छोटे भाई से लड़की की शादी कराने की मांग कर दी और जब लड़के वालों ने इंकार किया तो वो उनसे मार-पीट करने पर उतारू हो गए। इसके अलावे हद तो तब हो गई जब लड़की के पिता ने लड़के वालों के दिए हुए कपड़े और गहने भी देने से इंकार कर दिया। दुल्हन लेने आए दूल्हे को मजबूरन बिना अपनी दूल्हन के वापस लौटना पड़ा।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

आपको बता दें कि यह दिलचस्प कहानी मधुबनी जिले के अरेर थाना क्षेत्र पौना गांव के पास की है। जहां उसी गांव के रहने वाले सोनेलाल पंडित ने अपने बड़े बेटे की शादी फुलपरास थाना क्षेत्र के खौफा गांव स्थित मुनेश्वर पंडित की लड़की के साथ तय किया था। वहीं तय दिन पर बारात लड़की के दरवाजे पर पहुंची। जहां चारों तरफ खुशियों का, नाच गानों का माहौल बना हुआ था। शादी की सारी रस्में हिन्दू रिवाज के अनुसार पूरी की गई, केवल सिंदूरदान बचा हुआ था कि अचानक दुल्हन के घरवालों ने शादी से इंकार कर दिया। लड़की वालों के इस फैसले से दूल्हे के परिवार को बहुत ही बड़ा झटका लगा। लेकिन जब लड़की वालों से इस फैसले का कारण पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘शादी तभी होगी जब शादी लड़के के छोटे भाई से होगी’।

ये भी पढे़ं:-   मो. शमशाद और मो.वलीउल्लाह ने दरभंगा की जनता को दी गणतंत्र दिवस की शुभकामना

मना करने पर और अपने दिए गए जेवर की वापस मांग करने पर लड़की के पिता मार-पीट करने पर उतर गए। जिसके बाद इज्जत बचाने के लिए लड़के वाले बारातियों के साथ वापस लौट गए। वहीं दूसरे दिन पंचायत बुलाई गई। जिसमें लड़के ने बताया कि शादी नहीं होने का गम नहीं है लेकिन इस शादी में उसके पिता ने कर्ज लेकर करीब एक लाख 50 हजार के जेवर-जेवरात और कपड़े खरीदकर दूल्हन को दिया था। जिसे लड़की वालों ने देने से इंकार कर दिया। जब पंचायत ने सामान वापस देने का फैसला सुनाया तो लड़की के पिता वहां से उठकर चले गए। वहीं दूल्हे के पिता ने थक हारकर फुलपरास थाने की पुलिस से इस बात की गुहार लगाई है। जिसके बाद पुलिस छानबीन के लिए लड़की वालों के घर पर पहुंची पर मौके पर किसी के उपस्थित ना होने की वजह से उन्हें वापस लौटना पड़ा। लेकिन ये देखना दिलचस्प होगा कि इस मामले का नतीजा क्या निकलता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME