25 फ़रवरी, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

ऐसे आया देश की बड़ी परीक्षाओं का पर्चा लीक करने वाला मास्टरमाइंड ‘रंजीत डॉन’ पुलिस की गिरफ्त में

arrest

demo

कुलदीप भारद्वाज की रिपोर्ट

भोजपुर , 24 दिसम्बर। मेडिकल पेपर लीक के मास्टरमाइंड ‘भोजपुर के रंजीत डॉन’ को उसके दारोगा फूफा के घर से दबोच कर तेलंगाना पुलिस ले गई। अपने दारोगा फूफा के घर में छुपकर रह रहा था शातिर मिथिलेश, जो भोजपुर का जाने माने डाॅन के नाम से जाना जाता है। रंजीत को कई नामों से जाना जाता है भोजपुर में शातिर बाबा उर्फ मिथिलेश कुमार उर्फ आर के सिंह। जानकारी के अनुसार 2 साल पहले राजस्थान पब्लिक सर्विस कमीशन का पर्चा लीक करने के मामले में राजस्थान पुलिस ने उसे पकड़ा था। हैदराबाद में मेडिकल पेपर लीक मामले के मास्टरमाइंड की तलाश में 5 दिन पहले बिहार पहुची तेलंगाना पुलिस ने आखिरकार बड़ी मशक्कत और बिहार पुलिस की मदद से शातिर बाबा उर्फ मिथिलेश कुमार को भोजपुर के कोइलवर से गिरफ्तार कर लिया।
शातिर बाबा कोइलवर में अपने दारोगा फूफा के यहाँ छुप कर रह रहा था। भोजपुर पुलिस के सहयोग से तेलांगना पुलिस ने उसे उसके फुफा के घर से ही दबोच लिया। उसकी गिरफ्तारी चांदी थाना क्षेत्र से शुक्रवार को हुई। आरा कोर्ट में पेशी के बाद तेलंगाना पुलिस उसे अपने साथ लेकर चली गई। विदित हो कि इंजीनियरिंग, कृषि एवं मेडिकल संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीते नौ जुलाई को जवाहरलाल नेहरू प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय द्वारा ली गई थी। 25 जुलाई को सीआईडी द्वारा पेपर लीक का मामला दर्ज किया गया था। पूर्व में सीआईडी तेलंगाना ने कारवाई में बिहार के अजय कुमार सिन्हा, श्रुतिकेश कुमार और राजेश कुमार को गिरफ्तार कर लिया था, बस इसी शातिर बाबा की तलाश की जा रहीं थी। पुलिस को उसने बताया था कि भोजपुर के चरपोखरी थाना क्षेत्र के पसौर गांव निवासी ललित किशोर सिंह का पुत्र मिथिलेश सिंह उर्फ आर के सिंह भी इसमें शामिल है। बिहार पुलिस के सहयोग से पहले तेलंगाना पुलिस ने पटना स्थित मिथिलेश के एक रिश्तेदार के घर पर छापेमारी की। इसके बाद उसके रिश्तेदार ने बताया कि वह अपनी फूफा के घर चांदी थाना क्षेत्र में रह रहा है।
उसकी गिरफ्तारी के लिए तेलंगाना पुलिस ने भोजपुर एसपी को इसकी जानकारी दी। इसके बाद एसएसपी अभियान साजिद के नेतृत्व में तेलंगाना पुलिस के सीआईडी के डीएसपी उपेंद्र रेड्डी की टीम ने उसके फूफा के घर पर छापेमारी की, जहां से वह पकड़ लिया गया। पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी के लिए उसके अलावा रिश्तेदार के मोबाइल को भी सर्विलांस पर रखा था, लेकिन मोबाइल फोन का वह इस्तेमाल ही नहीं करता था। इस कारण पुलिस को उसे पकड़ने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। इससे पहले गिरफ्तार होने के बाद एक साल पहले वह बेल पर बाहर आया था। बाहर आने के बाद भी वह बड़ी व महत्वपूर्ण परीक्षाओं का पर्चा लीक करता रहा है। तेलंगाना, राजस्थान समेत कई राज्यों में होने वाले मेडिकल परीक्षा का पेपर लीक कराया है। उसका दिल्ली, हैदराबाद, राजस्थान समेत कई राज्यों में पेपर लीक कराने का गैंग भी है। उसकी दिल्ली के द्वारिका, पटना में गोला रोड समेत देश के कई शहरों में संपत्ति है। उसका ससुराल गौरीचक के कंडाप गांव में है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME