05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

मिथिला के इस गांव में ही भोलेनाथ के बड़े बेटे की होती है पूजा जो हैं देवताओं के सेनापति !

20161020_120130

डॉ. रामसेवक झा की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

मधुबनी, 20 अक्टूबर। मिथिला के गांव-गांव में भगवान भोलेनाथ का मंदिर जरूर मिल जाएगा। मान्यता है कि मिथिला की भूमि शिव-शक्ति की आराधना का केंद्र है और यही वजह है कि इस इलाके में शिव मंदिर और दुर्गा पूजा-काली पूजा की प्रमुखता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं जहां भगवान भोलेनाथ के बड़े पुत्र यानि भगवान कार्तिकेय की पूजा सदियों से की जा रही है। हम बात कर रहे हैं झंझारपुर के मधेपुर प्रखंड के बाथ गांव की जहां भगवान कार्तिकेय को आराध्य देव माने जाने की परंपरा रही है। शास्त्रों के मुताबिक भगवान कार्तिकेय देवताओं के सेनापति माने जाते हैं।

मधेपुर प्रखंड के बाथ गाँव में गुरुवार को सम्पूर्ण ग्रामिणों द्वारा भगवान् कार्तिक सहित अन्य देवी-देवताओं के प्रतिमा निर्माण हेतु बाबा डिहबार के पोखर में वैदिक मंत्रोच्चार व जयघोष के बीच मांंटी लिया गया । शंख-घड़ियाल की ध्वनि से गुञ्जयमान होते हुए गाँव के प्रमुख मार्ग से शोभा यात्रा निकाली गई । मांटि पछवारि टोल अवस्थित बजरंगबली के प्रांगन में रखा गया जहाँ वर्षों से कार्तिक भगवान् की पूजा-अर्चना होती रही है ।

ग्रामीण पंडित डॉ.रामसेवक झा व पंडित खुशीकान्त मिश्र ने बताया कि हमारे पूर्वजों द्वारा तकरीबन सौ वर्षों से अधिक से यहाँ कार्तिक भगवान की पूजा होती आ रही है । पूर्व वर्षों में ग्रामिण भक्तों की मनोकामना पूर्ण होने पर किसी एक परिवार द्वारा पूजा का सम्पूर्ण खर्च तथा पूजा समिति द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता रहा है । पूजा समिति के अध्यक्ष श्रीमोहन झा एवं कोषाध्यक्ष हरिश्चन्द्र झा ने कहा कि इस वर्ष सम्पूर्ण ग्रामीण के सहयोग से कार्तिक भगवान की पूजा-आराधना करने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से किया गया है। अभी से ही सम्पूर्ण भक्तगण पूजन व सांस्कृतिक कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु मनोयोग से लग गये है। अध्यक्ष ने बताया कि कीर्तन व सांस्कृतिक कार्यक्रम हेतु अग्रिम देने का कार्य प्रारम्भ हो गया है । कार्तिक पूजा इस वर्ष कार्तिक शुक्ल देवोत्थान एकादशी 10 नवम्बर से प्रारम्भ होकर कार्तिक पूर्णिमा 14 नवम्बर तक चलेगी। पूर्णिमा के प्रात:काल मूर्ति का भसान किया जाएगा । मांटी मंगल कार्यक्रम में कामेश्वर झा,ठको झा, नारायण झा,विनोदानन्द झा, अनिल झा, गौड़ीशंकर झा, डॉ.रामसेवक झा ,पं.खुशीकान्त मिश्र ,श्रीमोहन झा,विनय झा,नागेन्द्र झा, प्रेमगोविन्द मिश्र ,श्यामल झा , विनोद झा , ललित झा ,विष्णु झा सहित सैकड़ो ग्रामिण सम्मलित थें

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

ऐक विचार साझा हुआ “मिथिला के इस गांव में ही भोलेनाथ के बड़े बेटे की होती है पूजा जो हैं देवताओं के सेनापति !” पर

  1. Dr Satish Chandra jha October 21, 2016

    Kartik Bhagwan ki jai.
    Hamare Grameen ko abum Hamare bandhu bandhav ko sadbudhi mile, Sare kutum paribar dhanya dhanya se paripurit
    rahe yahi hamari kamna hai,
    jai ho jai ho.

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME