10, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

पर्यावरण जागरूकता को लेकर मिथिला पेंटिंग में हो रहा है नया प्रयोग… लोग ले रहें है सेल्फी !

bn_1480023254

मधुबनी, 25 नवंबर : मधुबनी जिले की पेंटिंग अब कपड़ों या कागज तक ही नहीं है। बल्कि अब उसकी एक अलग ही पहचान बन गई है। अब मिथिलांचल की अलग पहचान पेड़ों पर बने पेंटिंग से हो रही है। पेड़ो पर मिथिला पेंटिंग को दर्शाने के इस कला के पीछे इस कला से जुड़े महिलाओं को बच्चियों का कहना है की यह तरीका पर्यावरण के लिए फायदेमंद साबित होगा। कलाकारों का कहना है की इस कला से पेड़ की कटाई में कमी आएगी। इस कला में महिलाओं और बच्चियों ने पेड़ों पर मधुबनी पेंटिंग को धार्मिक थीम से सजा रही है। किसी पेड़ पर कृष्ण लीलाएं हैं तो किसी पेड़ पर राम दरबार सजा है। रामपट्टी से राजनगर के रास्ते में पांच किलोमीटर के दायरे में इसी तरह पेड़ों को सजाया गया है।

यह तरीका पेड़ों की कटाई के लिए हथियार के रूप में साबित हो गया है। अब तो सड़क से गुजरने वाले लोग अपने वाहन रोककर इन पेड़ों के साथ सेल्फी लेते हैं। मधुबनी में पेड़ों पर मनमोहक चित्रकारी देखकर दूसरे लोग भी जागरूक हो रहे हैं। सड़क के दोनों ओर का नजारा तो अपने आप ही खूबसूरत बन गया है। पेड़ों पर पेटिंग बनाने की इस मुहिम में मंगरौनी निवासी कुमारी प्रिया, लहेरियागंज की ममता झा जैसी दर्जनों महिलाएं और किशोरियां जुड़ी हैं। चकदह गांव की कलाकार सिया देवी कहती हैं- यूं भी पेड़ों को देवता मानकर पूजा जाता है। ऐसे में पेड़ों को ईश्वर की लीलाओं से ही सजाया गया है ताकि लोग इन पर कुल्हाड़ी न उठाएं। जगतपुर निवासी रानी झा ने बताया कि हम सबसे पहले पेड़ के तने पर चूना पोतते हैं ताकि कीड़े- मकोड़े मर जाएं। इससे सफेद बेस भी तैयार हो जाता है। इसके बाद उस पर पेंट से धार्मिक थीम जैसे राम, सीता, कृष्ण, बुद्ध या महावीर के अलावा तुलसी, पीपल, देवालय आदि का चित्र बनाते हैं। एक पेटिंग बनाने में कम से कम 5-6 घंटे लग जाते हैं।

बताया जा रहा है कि तीन साल पहले ही इसकी शुरुआत की गई थी। पर अब यह तरीका पुरी तरह सफल हो गया है। पेड़ों को बचाने के लिए मधुबनी पेंटिंग का आइडिया यहां की एक स्वयंसेवी संस्था ग्राम विकास परिषद के सचिव षष्ठीनाथ झा को आया। उन्होंने ही महिलाओं और बच्चियों को इस मुहिम से जोड शुरुआत 2013 में हुई थी, नतीजे अब सामने आ रहे हैं। प्रशासन भी नतीजों से हैरान है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME