03, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

मोदी जी अब ‘मन’ की बात नहीं, होनी चाहिए ‘गन’ की बात !

fgdhgfj

आशिष भट्टाचार्य

पटना, 20 सितम्बर। प्रधानमंत्री जी, आप जन नेता हैं, चुनावी सभाओं में जनता का नब्ज जानकार अपने भाषण का अंदाज बदलते आपको देर नही लगती, आपको अपना आदर्श समझने वालों को अपने आपको भक्त जैसे शब्दों के सुनने से व्यथा नही होती, आप पर विश्वास इतना की देश के सर्वाधिक प्रिय प्रधानमन्त्री का तमगा आपको दिया, आपके हरेक उद्बोधनों को सुनने के लिए कई लोगों ने कई कई महत्वपूर्ण कामों को नजरंदाज किया, सिर्फ इसलिए क्योंकि काफी दिन बाद शायद देश को आपमें देश का सम्मान और स्वाभिमान अक्षुण रखने वाला प्रधानसेवक नजर आया था।

आपही के बोले गये सारे बोल आज कसौटी पे तोले जा रहे। आपही के सारे बताये नुस्खों की आज नुक्ताचीनी हो रही । सोशल मीडिया से हवा का रुख भांपने की शक्ति रखने वाले पे देश की जनाकांक्षा न समझ पाने की तोहमत थोपी जा रही।
या शायद आज फिर प्रासांगिक हो गए फिर वो दो नाम, जिनमे से एक को तो आप ने खुद अपना आदर्श माना, छोटे कद लेकिन गम्भीर इच्छाशक्ति वाले लाल बहादुर शास्त्री एवं दूसरे सदैव आपके प्रखर राजनैतिक वैचारिक निशाने एवं आपके कांग्रेस मुक्त भारत की परिकल्पना की सूत्रधार नेत्री इंदिरा गांधी की।

देश का इतिहास इन दोनों प्रधानमंत्रियों का ऋणी है। विजय एवं स्वाभिमान इन दोनों पूर्व प्रधानमंत्रियों की देश को प्रदत्त उपलब्द्धि है। शायद उस समय वैज्ञानिक और तकनीकी संसाधन भी आज जैसे समृद्ध नही थे।

आप आगे बढ़ेंगे तो आपके विरोधी भी इस बार शायद आपके साथ दिखें। शास्त्री जी के एक दिन उपवास रखने का आवाह्न इस देश ने माना था, आपके लिए तो शायद जान देने वाले भी खड़े मिलेंगे।

देश जानता है नुक्सान सम्भव है, भरपाई देश फिर करेगा, महंगाई सहेगा, अतिरिक्त टैक्स भरेगा, सम्भव है हर मां अपने बच्चे को देश के स्वाभिमान की खातिर एक रात भूखा भी रख ले। आने वाली पीढ़ी के लिए परमाणु बम के दुष्प्रभाव भी शायद आज के ष्आतंकवादष् से कम हो।

आपसे उम्मीदें चरम पर हैं। बाकी परवाह न कीजिये। अपनी ही कही गयी बातों को याद कीजिये। देश आपके साथ है।

नोट: लेखक विज्ञापन जगत के जाने माने व्यक्ति हैं

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME