05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

पापा, स्कूल में सब कह रहे हैं कि तेरा बाप नक्सली है….नक्सली पिता-पुत्र की इस कहानी पर फिल्म बन सकती है !

naxali-1

photo credit : Bhaskar

स्कूल में बच्चों को नक्सली का बेटा कह दिया जाता था ताना, किया सरेंडर

औरंगाबाद, 31 अगस्त। कहने के लिए वे तीनों कुख्यात नक्सली थे, लेकिन उनके मन में पिता की भावना जागृत थी। यहीं कारण हैं जब उनके बच्चों को लोगों ने नक्सली का बेटा कह कर ताना मारा तो उन तीनों नक्सली ने सरेंडर करने का निर्णय लिया।

जी हां सुनने में अजब लगे लेकिन यह सच है। जानकारी अनुसार मंगलवार को औरंगाबाद जिले के देव के राजा जगन्नाथ उच्च विद्यालय के मैदान में पुलिस पब्लिक के साथ फुटबॉल मैच का आयोजन किया गया था। काफी मात्रा में स्थानीय दर्शक उपस्थित थे। इसी बीच सभी दर्शक हैरान रह गए। तीनों नक्सली बारी-बारी से मंच पर चढ़ आए।

सबजोनल कमांडर सहित तीनों नक्सली को वर्दी में देख पहले तो अफरा तफरी का माहौल व्याप्त हो उठा। हालांकि कुछ क्षणों के बाद जब सरेंडर करने की बात सामने आई तो लोग शांत हुए। बताया जा रहा है कि आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों में ढिबरा थाना के वन विशुनपुर गांव निवासी सबजोनल कमांडर दारा यादव उर्फ ददन, गोह थाना के खैरा मोहन गांव निवासी हार्डकोर नक्सली अनिल चंद्रवंशी सलैया थाना क्षेत्र के राजा बिगहा गांव निवासी रमेश यादव शामिल हैं।

इस अवसर पर एसपी बाबू राम ने कहा कि अब लड़ाई की बारी नहीं है। हम भटके हुए लोगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ेंगे। ग्रामीण या परिवार अपने घर के या पास-पड़ोस के भटके हुए युवाओं को समाज के मुख्य धारा से जोड़ें। मिलजुल कर ही समाज का विकास किया जा सकता है।

अपने बच्चों के कारण किया सरेंडर
-नक्सली संगठन में रहने से बच्चों का भविष्य चैपट हो रहा था।
-स्कूल में बच्चों को नक्सली का बेटा कहकर चिढ़ाया जाता था।
-इस कारण बच्चों के मनोबल पर पड़ रहा था बुरा असर।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME